साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत
Posts 114
Total Views 16,295
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ सरस्वती की दयादृष्टि से लेखन में गहन रूचि है।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

याद मेरे गाँव की

मुझे सोने नहीं देती, खुश होने नहीं देती, याद मेरे गाँव की, याद [...]

बेटी

जिस घर के आँगन में बेटी है वहाँ तुलसी की जरूरत नहीं, देखो बेटी [...]

सदा सच की तरफदारी करूँगी

सदा सच की तरफदारी करूंगी, कुछ हो जाये उम्र सारी [...]

हर कोई ताकने लगा

लगता है जवानी की दहलीज पर कदम रख दिया, मेरी बेटी को अब हर कोई [...]

राधा बन प्यार करूँ

मीरा बन पूजूँ तन्नै अर राधा बन प्यार करूँ, खुद तै घणा साजन [...]

अखण्ड भारत बनाना होगा

खण्ड खण्ड होते भारत को अखण्ड बनाना होगा, सरदार पटेल जी आपको [...]

बेटी

पढ़ लेती है वो मेरे दिल के भावों को समझ लेती है मेरी उधेड़बुन [...]

पैगाम भेजा

मोहब्बत पर लाज का पहरा बिठा आँखों से पैगाम भेजा, हाल ऐ दिल लिख [...]

दिल से नहीं निकलता जो वो ख्याल हो तुम

दिल से नहीं निकलता जो वो ख्याल हो तुम, उस खुदा की रचनाओं में [...]

इंतजार

मेरी सुबहों को तेरी शामों का इंतजार रहता है, मेरे टूटे हुए [...]

दास्ताँ ऐ मोहब्बत

दिल के दरवाजे पर नजरों से दस्तक दी थी कभी, दबे पैर आकर मेरी [...]

दास्ताँ ऐ दर्द

मिलना कभी तुम फुर्सत में हाल ऐ दिल बताएंगे, जख्म अपने दिल के [...]

ये जिंदगी

हरिश्चंद्र के वचन जैसी, मीरा बाई के भजन जैसी, है ये [...]

यादों का कोहरा

यादों के कोहरे ने ढ़क लिया बेवफाई का आसमान, मुझसे ही दगा कर रहा [...]

दर्द ऐ गरीबी

कभी देखती हूँ खाली कढ़ाही को, कभी बच्चों के खाली पेट को, साहब [...]

खो गए वोट और नोट

लागी कालजे चोट, लेवां क्यूकर ओट, एक झटके म्ह खुगे, म्हारै वोट [...]

धनवानों की सरकार ने धनवानों को लूट लिया

धनवानों की सरकार ने धनवानों को लूट लिया, देख हालात ये विपक्ष [...]

यादों को उनकी दिल से मिटाने चली हूँ

फिर से मोहब्बत की बस्ती बसाने चली हूँ, यादों को उनकी दिल से [...]

माटी स यू चाम बावले

तज दे नै काम बावले, माटी स यू चाम बावले, एक दिन पछतावैगा, ना [...]

आंतकियों के इस एनकाउंटर पर देखो मचा है बवाल

आंतकियों के इस एनकाउंटर पर देखो मचा है बवाल, जिसे देखो उठा [...]

जो दे रहे थे कल स्वदेशी अपनाने की सलाह खुलकर

जो दे रहे थे कल स्वदेशी अपनाने की सलाह खुलकर, चाइनीज लड़ियाँ [...]

चलो अबकी बार हटकर दिवाली मनाएं हम

चलो अबकी बार हटकर दिवाली मनाएं हम, शहीद जवानों के नाम एक दीया [...]

तेरी यादों के साये में जिंदगी का चिराग जल रहा है

तेरी यादों के साये में जिंदगी का चिराग जल रहा है, वक़्त ठहर गया [...]

तीन तलाक

खुश हो लिए तुम तीन बार तलाक कह कर, पता है मन भर गया है तुम्हारा [...]

अहोई अष्टमी

छोड़ देती है माँ को संतान आज देखो दर दर भटकने के लिए, फिर भी माँ [...]

दिल का दर्द मैं दिल में पाले बैठी हूँ

दिल का दर्द मैं दिल में पाले बैठी हूँ, गम तेरी मोहब्बत का [...]

कितना पावन पर्व है करवा चौथ

कितना पावन पर्व है करवा चौथ हम महिलाओं के लिए, इस दिन के आगे [...]

करवा चौथ पर एक रचना

सूर्योदय से पहले उठी मैं, किया जलपान मैंने, जलपान में लिया [...]

सपना म्ह बी टोहै ना पावैं थमनै ये स्कूल सरकारी (हरियाणवी)

सपना म्ह बी टोहै ना पावैं थमनै ये स्कूल सरकारी, इनकी जो या [...]

कहाँ से चली आई तुम जिंदा लाशों की बस्ती में

कहाँ से चली आई तुम जिंदा लाशों की बस्ती में, सब बापू के बंदर [...]