साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: शुभम् वैष्णव

शुभम् वैष्णव
Posts 13
Total Views 149

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

झूठ का आफ़ताब भी है बहुत!

झूठ का आफ़ताब भी है बहुत। सच मगर लाजवाब भी है बहुत। आ मिटा [...]

बहनें!

गजल - बहनें इस दुनिया में सबसे प्यारी है बहनें। भाई के [...]

शह्र के शह्र हो गए पत्थर!

शह्र के शह्र हो गए पत्थर। अब तो कोई नहीं यहाँ रहबर। हू ब [...]

बताओ तो जरा, अब मैं किधर जाऊँ!

गजल बताओ तो जरा , मैं अब किधर जाऊँ। खुदा का घर जिधर भी हो उधर [...]

राह में जो शहर नहीं होता!

राह में जो शहर नहीं होता। वो कभी हमसफ़र नहीं होता। मैं न [...]

इश्क़ कर सब भटक रहें,

इश्क़ कर सब भटक रहें , अपनी अपनी राह। काम कुछ तो अब कर लो, क्या [...]

प्यार से दिल का भरा भंडार है!

रौशनी का ईद जो त्यौहार है। प्यार से दिल का भरा भंडार है। [...]

कौन तवज्जो देता है इन कोमल अहसासों को!

माँ जाने अपने बेटों के दिल के जज़्बातों को। कौन तवज्जो देता [...]

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई!

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई। क्यों अधूरी जिंदगानी रह [...]

जो किये तुमने शरारत कौन जाने!

जो किये तुमने शरारत कौन जानें। इश्क़ में जो है बगावत कौन [...]

ख़त्म जो हो वो सफ़र क्या मांगना!

ख़त्म जो हो, वो सफ़र क्या मांगना। चार कदमो का डगर क्या [...]

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई। क्यों अधूरी जिंदगानी रह [...]

मिला है दर्द जो तेरे निगाहों का असर है ये।

मिला है दर्द जो तेरे निगाहों का असर है वो। पता मुझको नहीं था [...]