साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: SHASHIKANT SHANDILE

SHASHIKANT SHANDILE
Posts 20
Total Views 149
It's just my words, that's it.

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

क़त्लेआम ~~~~

(संदर्भ - गोरखपुर के अस्पताल की घटना) दद्दा मेरा लाल मर [...]

==* उसे भारत भूमि कहते है *==

जहाँ देश को दर्जा माँ का है जहाँ माँ को देवी कहते है जहाँ [...]

==* जहाँ मैं खड़ा था *== (गजल)

नजारा नशीला जहाँ मैं खड़ा था गवारा नही लौटना मैं खड़ा था नदी [...]

==* याद मे ये नैन रोये यार आजा *==

(गजल ) वृत्त: मंजुघोषा गालगागा गालगागा गालगागा याद तेरी रोज [...]

==* समां फिर रुक गया *==

समां फिर रुक गया मानो की कोई यार आया है! बहोत दिन बाद जो देखा [...]

==* मछली थी फोकट की *==

(मुंबई में घटी सड़क दुर्घटना) मछली थी फोकटकी जान की ना कीमत [...]

==* न कर सकी तू वफ़ा *==

न कर सकी तू वफ़ा ऐ सनम मुझे तुझसे कोई गिला भी नहीं न कर सकी तू [...]

==** धड़कनों को तेरे संभाला तो होता **==

गम मनाऊ तो कैसे रिश्ता तो होता चल सके साथ मेरे फरिश्ता तो [...]

==* नशीला है सागर *==

नशीला है सागर ये आंखे जो तेरी डूब जाऊ मैं उनमें जी चाहता [...]

==* मेरी भी एहतियात होगी *==

पहले जो सच की खबर होती न यु बेवजह जुरूरत होती कितना वक्त बिता [...]

==* बहोत छोटी है उम्र जिंदगी की *==

बहोत छोटी है उम्र जिंदगी की कशमकश भरी राह जिंदगी की भर आती [...]

==* अब पीना जरुरी है *==

मुझे मैख़ाना दिखा दो की अब पीना जरुरी है हुये हासिल ग़मो को अब [...]

==* कोशिश तो बहोत की *==

कोशिश तो की न की, ऐसा कुछ नही मिन्नत भी की न की, ऐसा कुछ [...]

==* देखते है बाप से बेटा बड़ा क्या हो रहा है *== (गजल)

नातवानी से फ़साना देश तेरा हो रहा है! देख लो यारो तमाशा आज ये [...]

==* अच्छा लग रहा है *==

अच्छा लग रहा है खुलकर मुस्कुराना अच्छा लग रहा है खुलकर [...]

==* उनका क्या कर पायेंगे *==

गद्दारों को पकड़ पकड़ कर कैसे मार गिरायेंगे छुपकर बैठे दामन [...]

==* है बधाई ईद आई *==

है बधाई है बधाई ईद आई ईद आई है बधाई ईद आई दिली बधाई है मेरे [...]

==* औकात ये है अपनी *==

तू मंदिर मैं मस्ज़िद तू चर्च मैं विहार तू ये तू वो मैं ये मैं [...]

हर दफ़े तु………..

हर दफ़े तु मेरी निगाहों में शामिल होती है ! ये जो चाहते है मेरी [...]

==* समशान नजर आता है *== (गजल)

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है दर-दिवार से आंगन सुनसान [...]