साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: bunty singh

bunty singh
Posts 22
Total Views 108
साहित्य एवं संगीत में रूचि की वजह से आपके बीच हूँ .rnजब लिखना ज़रूरी हो जाता है 'तब लिखकर उलझने कम कर लेता हूँ rnदर्द की लोग दाद दिया करते हैं rn=====बंटी सिंह ===========

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

शेर

बद्दुवा मुझे दो शर्माना नहीं दिली बात अब तुम छुपाना नहीं [...]

शेर

मिलो न मिलो तुम जताना नहीं किया प्यार हमने दिखाना नहीं [...]

शेर

यहीं दोजख ज़न्नत है जाना नहीं किया जो करम तुम भुलाना नहीं [...]

शेर

कभी आप खुद से सताना नहीं दुखी हो गये तो फ़साना नहीं मेरी याद [...]

शेर

''शहर में हर शख्स तनहा अनमना बहरा मिला कोठियाँ सब की अलग सब का [...]

शेर

"हम दिल को कई रोज़ से बहलाये हुए हैं काग़ज़ के कबाड़ों से घबराये [...]

तुम्हारा पहला.. कभी पैग़ाम ही आये…….

ग़ज़ल ========================== किस्सा ओ कहानी ; मिरा क़लाम ही जाये तस्वीरें [...]

ग़ज़ल ..’… .. वाज़दा चाहिए ”

दाल रोटी बस...बकायदा चाहिए अब नहीं झगड़ना; वायदा चाहिए रूठ [...]

ग़ज़ल ..”’…..अक़्स बूंदों में दिखाते हैं..”

================================ गुज़रते पल गुज़रते छिन कभी हमको रुलाते हैं कभी [...]

ग़ज़ल .”खूबसूरत …लगा नहीं कोई”

--------------------------- चल सका सिलसिला नहीं कोई मुसकाता.... मिला नहीं [...]

ग़ज़ल ..”..जिंदगी दर्द की कहानी है’

========================= बात मुहब्बत की बतानी है जिंदगी दर्द की कहानी [...]

ग़ज़ल ..”ज़िंदगी तुझे गुरूर क्यों है..”

************************************ ज़िंदगी तुझे गुरूर क्यों है ये शराब सा शुरुर [...]

ग़ज़ल ..”.. उन्ही के सामने.’..’

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~====== खूब बातें की उन्ही से बस खुदी के सामने बोलती बस [...]

ग़ज़ल ‘.. तुम संसार पढ़ लोगे..’

*************************************** असुवन तरल कतार बद्ध लड़ी मोतियन गढ़ [...]

ग़ज़ल ..’.. याद रहते हैं..’

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ नज़ारे याद रहते हैं.....पुराने याद रहते हैं कभी न [...]

ग़ज़ल ..’मै मिलूंगा तुझे…. अज़नबी की तरह..’

===*====*========*====*=* ज़िंदगी में तड़प .. तिश्नगी की तरह मौत से मिलन हो.. [...]

ग़ज़ल…’मरेंगे जिएंगे ; जिएंगे मरेंगे..’

====================== जहाँ पर गगन और सागर मिलेंगे ज़ुदा दिल कभी तो वहीँ पर [...]

ग़ज़ल ..’.यादें बसी है आज तलक .”

-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-* गुज़रे हुए लम्हात की 'उस पाक साल की यादें बसी [...]

ग़ज़ल ..”..मुस्कुराते है आ गया कोई..’

============================ मुस्कुराते है आ गया कोई ख्वाब बनकर है छा गया [...]

ग़ज़ल..’..याद आई आज फिर..”

भूलना चाहूँ न भूलूँ याद आई आज फिर चाँद निकला चांदनी भी शरमाई [...]

ग़ज़ल ”……..पुरानी दास्ताँ जो दरमियाँ..”

------------------------------------------ ग़लतफ़हमी हार जायेगी मियाँ दोस्ती जीतेगी [...]

ग़ज़ल ”….”पंजाबी हो गई हैं ”

शर्म क़सम से गुलाबी हो गई हैं नियत भी अब पंजाबी हो गई हैं लहर [...]