साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: संजय सिंह "सलिल"

संजय सिंह
Posts 114
Total Views 4,389
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच संचालन का शौक है l email-- sanjay6966@gmail.com, whatsapp +917800366532

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

II जहां मांग खत्म हो जाती है…II

जहां मांग खत्म हो जाती है l जहां स्वाद खत्म हो जाता है ll ना [...]

II… गई जब रात सारी….II

जो वादा था किया तुमने वो पूरा क्यों नहीं होता l गई जब रात सारी [...]

II…आजकल बदला ये मौसम…II

सोच कर ही वोट दो, या नोट को खर्चा करो l कान से सुन मन गुनो, फिर जा [...]

आंखें

आंखों से गिरा l वह कहां फिर उठा l ऊंची हवेली ll आंखों में पानी [...]

II नसीबा हि दुश्मन…..II

नसीबा हि दुश्मन हमारा हुआ है l जहां डूबी कश्ती किनारा हुआ है [...]

II एक चितवन से…..II

एक चितवन से ए मन चपल हो गया l बात कुछ तो रही जो विकल हो गया [...]

II…मिट्टी की खुशबू…II

किताबें धर्मों की जो भी वो नफरत दे नहीं सकती l वतन की मिट्टी [...]

II सबसे बड़ा है पैसा..II(कुंडलिया)

कुण्डलिया छंद ----- सबसे बड़ा है पैसा ,संबंधों को त्याग l हम [...]

II रहो मौन चुप साधि अब II(कुण्डलिया)

रहो मौन चुप साधि अब ,समय बड़ा बलवान l बोले बात खराब हो, छोड़ो [...]

II तेरी याद भी…..II

तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब [...]

II ए रातें सुला दूं….II

ए रातें सुला दूं सितारे बुझा दूं l मैं धीरे से उल्फत कि शम्मा [...]

II तुम पिछली कहानी भूल गए….II

तुम पिछली कहानी भूल गए, हम बीते कल में ही अटके हैं l जाने तुम [...]

II..आईना भी हैरान…II

देख कर यह आईना भी हैरान हो जाए l जब उसी सूरत से फिर दो चार हो [...]

II…हदों को पार करना भी….II

जरुरी है मोहब्बत में हदों को पार करना भीl अकीदत में झुका हो [...]

II….जो गाते रहे हैं….II

गमों को छुपा के जो गाते रहे हैंl अकेले में आंसू बहाते रहे हैं [...]

II कुछ आरजू ज्यादा न थी…II

कुछ आरजू ज्यादा न थी ए जिंदगी तुझसे मेरी l फिर भी शिकायत कुछ [...]

II राह में था काफिला….II

राह में था काफिला भी खो गया l मंजिलों का आसरा भी खो गया ll वह न [...]

II..आशिकी के सामने…II

कब चला है बस किसी का आशिकी के सामने l दो जहां की क्या खुशी तेरी [...]

II कुछ भी हुआ ना पूरा….II

कुछ भी हुआ ना पूरा ,हर काम है अधूराl जाना पड़ेगा फिर भी,अनुबंध [...]

II आईने को सामने रखना जरूरी है II

क्या लिखूं कैसे लिखूं लिखना जरूरी हैl आईने को सामने रखना [...]

II…..मुश्किल है पर अच्छा है II

टूटा दिल और टूटे सपने ,पहले ही सब दफन किएl कफन ओढ़ कर जिंदा [...]

II सूखी रोटी और तरकारी में II

सूखी रोटी और तरकारी में, बच्चों की किलकारी में, मिल जाएगी [...]

II दर्द मुफलिसी का II

ना कोई दोस्त अपना, न पहचान कोई l जिस पर बीते वह ही जाने ,दर्द [...]

II तुम ही सुबह शाम हमारे II

तुम ही सुबह शाम हमारे, सूरज चंदा तारे हो l सारी दुनिया से क्या [...]

* बस कमाओ ना *

मुस्कुराना ठीक है, पर दिल जलाओ ना l दिल में उतर कर कभी, दिल [...]

भीड़ में तनहा

भीड़ में तनहा कब ,पल्लवित और पुष्पित हो गयाl एक जर्रा इस कदर, [...]

II सजा दिल लगाने की II

साथ मेरे मिली उसको, सजा दिल लगाने की l मुझको पता उसने मुझसे, यह [...]

II राजनीति स्वच्छ कैसे होगी II

राजनीति स्वच्छ कैसे होगी? हम चुनते हैं अपना प्रतिनिधि [...]

II टूट गया कुनबा …II

टूट गया कुनबा, सब कुर्सी के दीवाने हैंl सत्ता का नशा [...]

II दिमागों में गुरूर देखा है….. II

दिमागों में गुरूर देखा है l सलीके में शुरूर देखा है ll भरी [...]