साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: सागर यादव 'जख्मी'

सागर यादव 'जख्मी'
Posts 46
Total Views 456
नाम- सागर यादव 'जख्मी' जन्म- 15 अगस्त जन्म स्थान- नरायनपुर पिता का नाम-राम आसरे माता का नाम - ब्रह्मदेवी कार्यक्षेत्र- अध्यापन माँ सरस्वती इंग्लिश एकाडमी ,सरौली,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश. प्रकाशन -अमर उजाला ,दैनिक जागरण ,रचनाकार,हिन्दी साहित्य ,स्वर्गविभा,प्रकृतिमेल ,पब्लिक इमोशन बिजनौर ,साहित्यपीडिया और देश -विदेश की बहुत सी पत्र -पत्रिकाओँ मेँ रचनाएँ प्रकाशित. स्थायी पता- नरायनपुर,नेवादा मुखलिसपुर ,बदलापुर ,जौनपुर उत्तर प्रदेश ,भारत . पिन -222125 ईमेल-sagar9565@gmail.com मो.9519473238,8528829538

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मै अपने पिता का सहारा बनूँगा

न चंदा बनूँगा न तारा बनूँगा मै अपने पिता का सहारा [...]

हो गया कोई मेरा दीवाना मियाँ

क्या सुनाएँ सफर का फसाना मियाँ हो गया कोई मेरा दीवाना [...]

अपना हाले दिल सुनाने के लिए

अपना हाले दिल सुनाने के लिए गीत लिखता हूँ जमाने के लिए फिर [...]

अब हसीनोँ की गली मेँ आना-जाना छोड़ दो

प्यार के सौदागरोँ से दिल लगाना छोड़ दो अब हसीनोँ की गली मेँ [...]

जाड़े के मौसम मेँ अक्सर हैँ मचलती लड़कियाँ

आपके दिल मेँ हमेँ अपना ठिकाना चाहिए एक बेघर पंछी को अब [...]

फौजी मुझे बना दे मम्मी

एक बंदूक मँगा दे मम्मी फौजी मुझे बना दे मम्मी सरहद पर लड़ने [...]

जिसको पूजता संसार है

जिसको पूजता संसार है बेशक दया का भण्डार है आज फिर आपसे [...]

जब योगी गाय चरायेँगे

बेशक अच्छे दिन आएँगे जब योगी गाय चराएँगे ये पंक्षी जो चुप [...]

कभी भला तो कभी बुरा लगता है

कभी भला तो कभी बुरा लगता है वो सारी दुनिया से जुदा लगता [...]

टूटकर बिखरने का हौसला नहीँ है

मुझे आपसे कोई गिला नहीँ है मेरी किस्मत मेँ ही वफा नहीँ [...]

पागल

रात -दिन मेरे जीने की दुआ करती है वो लड़की अपना फर्ज अदा करती [...]

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती कि पहले की तरह [...]

न शरमाएँगे दुनिया से

न शरमाएँगे दुनिया से सुबह को शाम कह देँगे जो नफरत के पुजारी [...]

वफा का नाम सुनकर भी हमारा खून जलता है

कभी पंजाब जलता है कभी रंगून जलता है सियासी आग मेँ देखो ये [...]

मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ

जले दिल को जलाने की तमन्ना हम नहीँ रखते किसी को आजमाने की [...]

मुस्कुराने वालोँ से सब प्यार करते हैँ

जले दिल को जलाने की तमन्ना हम नहीँ रखते किसी को आजमाने की [...]

पढ़ा जो खत ‘सुनैना’ का

जिसे अपना समझता हूँ वही दुश्मन हमारा है तेरी दुनिया का मेरे [...]

मेरी इतनी सी ख्वाहिश है

किसी का घर बसा देना किसी घर को जला देना हमेँ आता नहीँ यारोँ [...]

खाली हाँथ आया था

खाली हाँथ आया था खाली चला गया गुलशन से मायूस होकर माली चला [...]

मुझे तुमसे मुहब्बत है

मेरे घर के रस्ते से जब कभी भी आप जाते हैँ मेरे घर के सोए भाग्य [...]

इतिहास

हाँथ की लकीरोँ पे इतना न इतरा 'सागर' इतिहास तो उन्होँने भी [...]

जिसकी बीवी बेवफा हो जाए

खुदा आदमी से खफा हो जाए मै नहीँ चाहता आदमी खुदा हो जाए उस [...]

क्या सच बोलना भी जुर्म है इस जमाने मेँ ?

शामो सहर रहता था वीराने मेँ बस यही खासियत थी उस दीवाने [...]

शायद कभी हम जलाने के काम आए

गीत, गजल, कविता सुनाने के काम आए जब तक रहे 'काका' हँसाने के काम [...]

गजल कहो

नजरोँ से नजर मिलाकर गजल कहो सारे शिकवे गिले भुलाकर गजल [...]

भारत देश महान है

भारत देश महान है भाई भारत देश महान है यहाँ के नेता चारा [...]

मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ

मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ आँखोँ मेँ बस गई [...]

मुजरिम

सोचा था शराफत से जियूँगा मगर इंसानियत ने मुझे मुजरिम बना [...]

मुजरिम

सोचा था शराफत से जियूँगा मगर इंसानियत ने मुझे मुजरिम बना [...]

बेटियाँ

माता-पिता के अधरोँ की मुस्कान बेटियाँ होती हैँ एक मुकम्मल [...]