साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
Posts 54
Total Views 661
1970 से साहित्‍य सेवा में संलग्‍न। अब तक 13 संकलन, 6 कृतियाँँ (नाटक, काव्‍य, लघुकथा, गीत, नवगीत संग्रह ) प्रकाशित। 1993 से अबतक 6000 से अधिक हिन्‍दी वर्गपहेली 'अमर उजाला' व अन्‍य समाचार पत्रों में प्रकाशित। वर्तमान में ई पत्रिका 'अभिव्‍यक्त्‍िा-हिन्‍दी-ऑर्ग' पर 2010 से हिन्‍दी वर्ग पहेली निरंतर प्रकाशित।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मौन रहेंगे

विधा - गीतिका छंद- रोला (सम मात्रिक) मापनी 11 // 13 चरणांत में [...]

नारी का मत कर अपमान

(गीतिका) छंद- आल्‍ह [विधान - चौपाई अर्धाली (16) + चौपई (15) मात्रा [...]

भारत माता

(कुकुभ छंद) पदांत- धरती है भारत माता, समांत- आनों की। अर्द्ध [...]

बसंत

पदांत- हुआ वसंती समांत- अन जाने को है शरद, माघ का सावन हुआ [...]

गणतंत्र

गीतिका ****** पदांत- का गणतंत्र समांत- अत्व आओ मनाएँ [...]

बेटी

मैं संतुष्ट हूँ माँ के चलने-उठन-बैठने खाने-पीने, नहाने-धोने [...]

कर्मनिष्‍ठ बनना होगा

गीतिका (लावणी छंद) कर्म पथिक जो होना है तो, कर्मनिष्ठ बनना [...]

वतन फूले फले

हरिगीतिका छंद गीत मापनी 221 2221 2221 2221 2 जो पर्वतों की तरह रह कर [...]

हिन्‍दी

1 हिंदी के अभियान को, इतना दें सहयोग. लोगों से हर दिन कहें, [...]

कहीं तुम खूँ बहाना मत

(विधाता छंद) मापनी 1222 1222 1222 1222 पदांत- मत समांत- आना कभी टूटे [...]

देख सको तो देखो

गीतिका (छंद- ‘सार’) मात्रिक भार - 16-12 पदांत- देख सको तो देखो [...]

बेटी घर का है उजियारा

चलो साथियो, मिल के घर-घर, इक अभियान चलाएँँ। बेटी घर का है [...]

विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज

विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज। दिल्‍ली में फिर कैंची [...]

बगल के नासूर हैं

कुसूरवार है येे मुँह पर कब तलक ताले रहेंगे नासूर हैं बगल के [...]

भारत मेरा महान् (देशगान)

उन्‍नत भाल हिमालय सुरसरि, गंगा जिसकी आन। उन्‍मुक्‍त तिरंगा [...]

वर दे, वर दे, वर दे……

(सरस्‍वती वन्‍दना) वर दे, वर दे, वर दे..... हे वीणाधारिणी वर दे. [...]

झूठ (दोहावली)

झूठ कभी ना जीतता, कर लो जतन हजार। भले देर से ही सही, जीते सच हर [...]

हिन्‍दी (दोहा-ग़़ज़ल)

आज हिन्‍दी दिवस है। इस अवसर पर हिन्‍दी-उर्दू एकता के लिए [...]

वामन अवतार

आज वामन जयंती है। वामन अवतार पर रोला छंद (11-13) में [...]

माँँ ने कभी न हिम्‍मत हारी

माँ ने कभी न हिम्मत हारी। बस कुछ न कुछ करते धरते कदमों को न [...]

मधुबन माँ की छाँव है

‘आकुल’ या संसार में, माँ का नाम महान्। माँ की जगह न ले सके, कोई [...]

सरस्‍वती वंदना

1 वीणापाणि नमन करूँ, धरूँ ध्‍यान निस्‍स्‍वार्थ। यथाशक्ति [...]

जंंगल में भी आरक्षण की हवा

शहरों की आरक्षण की हवा, जंगल में भी पहुँच गयी। जंगली जीवों [...]

मुझे सारा संसार हिन्‍दुस्‍तान लगता है

1 कुछ यूँ चले अम्‍नोवफ़ा की ताज़ा हवा शामोसहर। फ़स्‍ले [...]

पुरुषार्थ और परमार्थ के लिए कंचन बनो (प्रेरक प्रसंग/बोधकथा)

तेजोमय बढ़ी हुई सफेद दाढ़ी से दिव्य लग रहे साधु को देख कर नदी [...]

जनता जागरूक नहीं है

विक्रमादित्य ने वेताल को पेड़ से उतार कर कंधे पर लादा और चल [...]

एक अनोखा दान (नाटक)

पात्र- 1- श्रीकृष्ण- पाण्डवों के पक्ष में पार्थ अर्जुन के [...]

गणेशाष्‍टक

जय गणेश, जय गणेश, गणपति, जय गणेश।। (1) धरा सदृश माता है, माँ की [...]

मेरा भारत महान् (देशगान)

('पन्‍द्रह अगस्‍त छियानवे' के लिए 1996 में रचित यह रचना चरण के [...]

क्षुद्रिकाएँँ

दुश्‍मनी ***** दु:स्‍वप्‍न सा भर के गरल आकंंठ दोनों आखों में [...]