साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Rita Yadav

Rita Yadav
Posts 37
Total Views 1,369

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

धर्म कोई कहता नहीं

दर्द दे कर तूने क्या पाया ? क्या दर्द देने ही जहां में आया [...]

होठों पर कभी अंगार

मायूसी का मत रखना , होठों पर कभी अंगार , जल जाएगी खुशियां [...]

मौन आंखें

मौन आंखे मौन आंखे बोलती है , भेद हृदय का खोलती है l हृदय है या [...]

बहन बेटियों की लाज बचाइए

मां फिर से अपने हाथों में कटार उठाइए l लूट रही बहन बेटियों की [...]

हो शरीर बीमार तो

हो शरीर बीमार तो, वैध करे उपचार l रोग ग्रस्त मन के मगर, कैसे [...]

घोर कलयुग

घोर कलयुग लिया पनाह हैl अच्छाई ही बड़ा गुनाह है l अच्छे बुरे [...]

भारत मां का लाल दुलारा

आज सूर्य एक अस्त हुआ है l दूसरा कल उदित होगा , मन दुखों में है [...]