साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA
Posts 167
Total Views 2,648
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

पापा जैसा दूसरा, ..मिला नहीं धनवान

माँगा जो भी आजतक,मिला वही सामान ! पापा जैसा दूसरा, ..मिला नहीं [...]

राखी का त्योहार

उत्साहित है हर नगर ,शहर गली बाजार ! रक्षा बंधन का पुनित, आया है [...]

खोजूं सत्य चरित्त

हुआ सुदामा सा कभी,,कब किसका सत्कार! कान्हा जैसा दूसरा,.....हुआ [...]

ये बंधन अनमोल

रिश्तों के इतिहास मे, शोभित है भूगोल ! भ्राता भगिनी नेह के,,ये [...]

गये विरोधी काँप

मंजर देख बिहार का,गये विरोधी काँप ! छाती पर ऐसे लगा,.लोट गया हो [...]

हरियाली तीज

शुक्ल पक्ष की तीज यह , लाया सावन मास ! सखियाँ झूला झूलतीं,. ..मन [...]

गुरुवर का सम्मान

गुरु दिखलाये राह जब ,मिले नसीहत ज्ञान ! खिले उन्ही की सीख से, [...]

जान सके तो जान

साप्ताहिक आयोजन 172 शनि-रवि ( 08-09 जुलाई ) समस्यापूर्ति चरण- "जान [...]

कभी दिखाएँ आँख

कभी दिखाएँ आँख वो, कभी फुलाएँ गाल ! सच ने उनसे कर लिया, जब भी [...]

कब बदले तकदीर

इंसानों की क्या पता, कब बदले तकदीर ! कौन ऋतू निर्धन करे, कर दे [...]

कुदरत की तासीर

धँसती है धरती कहीं, कहीं बाढ की पीर ! समझेगा कब आदमी, कुदरत की [...]

दो सच्चा पैगाम

अनुशासन मे कीजिए,करना है जो काम! देना जब भी आपको,...दो सच्चा [...]

सोचो करो विचार

नही चाहते आप गर,..करे आपसे क्लेश! दुर्जन को करिये नमन,सबसे [...]

लेकर फेरे सात

हुए बरस अब तीस पर,लगती कल की बात! लाया था अनजान को,...लेकर फेरे [...]

खाएँ मेरे देश का,औरो का गुणगान

यहां मतलबी लोग कुछ, करें अनर्गल तर्क ! ईद दिवाली में [...]

हरिहर हरिहर जाप

मुख मे तो हरिओम है,मन मे लेकिन पाप ! फिर तो तेरा व्यर्थ है, [...]

चलो मनाएँ ईद हम

चलो मनाएँ ईद हम,सबको लेकर साथ! भुला पुरानी दुश्मनी, ले हाथों [...]

रोजाना फिर ईद है हर महिना रमजान

रोजाना फिर ईद है, हर महिना रमजान ! हमने अंदर का अगर,मार दिया [...]

जीने के आदाब

दौलत बँगले गाड़ियाँ ,सब कुछ उनके पास ! सिर्फ छोड़कर एक [...]

दोहे योग दिवस पर

योग दिवस का कीजिए,मन भावन सत्कार! होता है हर योग से,..रोगों का [...]

गाते मेघ मल्हार

नाच मयूरा झूमकर, गाते मेघ मल्हार ! चढ़ा नाव पर आज फिर, माँझी [...]

आफत मे है जान

बिन पानी सब सून है, सत्य समझ इंसान ! किल्लत से अब नीर की,आफत [...]

जैसे उँचे पेड पर,कच्चे पिंड खजूर

मुझको उसकी बात ये, लगी अनोखी खास! छोड गया जाते समय, खुद को [...]

सेना की हुंकार

बैरी को चढने लगा,सौ से अधिक बुखार! सीमा पर जब भी भरी, सेना ने [...]

हुई शर्म से लाल

किरणो ने जब सूर्य की,छुए भोर के गाल ! खिली रात की चाँदनी, .हुई [...]

पानी मे जब झूठ के पक जाती है दाल

गढ़ता है समभाव से , सारे कलश कुम्हार ! होते हैं तैयार पर,....सही [...]

बढा दायरा सोच का

बढा दायरा सोच का , तेरा मनुज जरूर ! दुनिया से इंसानियत, किन्तु [...]

मिल जाती तारीख

चली नहीं कानून की, उन पर कभी कटार ! होते हैं जो जुर्म के,..... असली [...]

करो सत्य स्वीकार

कितना भी कर लीजिए,यहाँ एक का चार! जाना खाली हाथ है,..करो सत्य [...]

दिया पिटारा खोल

धमकाया मैने बहुत, लिया खूब पुचकार! मुआ पिटारा याद का,खुल [...]