साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: रजनी मलिक

रजनी मलिक
Posts 29
Total Views 2,024
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

संयोग

"मम्मा !मै कुछ नहीं जानती ,आज हमारे ओल्ड ऐज होम को पूरा एक साल [...]

गजल

"लहरों को पतवार करोगे, तो खुद को मझधार करोगे। साथ न देगा कोई [...]

हर गजल कुछ कहती है

"सुकूँ से भीग जाती है,ये पलकें तेरे आने से, निगाहें जब ठहर [...]

सब्र

"सब्र बरसों का इक पल में जाया हुआ। माज़ी था, सामने वो दबाया [...]

वो चेहरा

"शराफत का करामाती ताला है सीरत पर" "अनजान सी नज़रें है [...]

कसक

"यक़ीनन यूँ तो बात आती नहीं, कसक बस ये आँखे जताती नहीं। सभी [...]

बेटियाँ

"नींव है परिवार,आँगन,जोड़ती है बेटियां, पर कही अपने ही हक़ को [...]

तोहफा

लघुकथा *****तोहफा******* आज शोभा बहुत खुश है ,आज उसका बेटा गौरव पूरे [...]

क़रार

"मै पूछता हूँ आइने से ,क्या तुझे है ये खबर! करार खो गया कहाँ,कि [...]

जिंदगी

"इक उम्र जिंदगी से मिलाती चली गई, दामन में सख्त गिरहें लगाती [...]

इंसान

अब सच्चा इंसान नहीं है। करे छलावा मान नहीं है। खेल हो रहा [...]

प्लास्टिक की गुडिया

"सुरभि चलो!जल्दी से तैयार हो जाओ!आज हमें गुप्ता जी के यहाँ [...]

राजनीति

"कुर्सियां हो गयी जीत दमदार की, ऐसे जनता बनी नींव जनाधार [...]

वो एक अकेली पर, दो घर को संजोये है

"वो एक अकेली पर ,दो घर को संजोये है। अनमोल खजाना है,बेटी में जो [...]

देर तक*

"वक़्त ने पहले सताया देर तक, आस ने लड़ना सिखाया देर तक, अर्जियों [...]

गजल-३

काफिया-आते रदीफ़-है बहर-2122 12 12 22 "हक़ से हक़ छीन कर सताते है, ये वफ़ा [...]

गलती

********"गलती"*********** "मैंने कितना सोचा, इस बारे में, ये सवाल है, जवाब [...]

बारिश

बारिश में बरसो बरस अपने , ख्वाबों की धनक, खुद में समेटे, मै [...]

ढूंढ़ते है*

*****/ढूंढते है/******* मावस में पूनम की, सहर में शबनम की, निशानी [...]

गजल-2

-------------- बेखुदी में गुनगुनाना चाहिये। वक़्त से लम्हा चुराना [...]

अशहार”

"सब को अपने जैसे रखना, होंठों पे मत शिकवें रखना,। ************** लौट [...]

बेटियां

"पुनीत जी आपकी बेटी बहुत प्रतिभावान है ,उसे अच्छे से अच्छे [...]

ख़त

************ "हुई दस्तक दरारों से,निकलकर इंतजार आया, खुली है [...]

गजल

"किसी दिन सामने सच बनके आओ। कभी तुम ख्वाबों के चिलमन [...]

बेटियाँ

"बेटियां" "बेटा हो या बेटी है दोनों खुशियों की पेटी, "वारिस के [...]

राखी

**************** "एक डोर, दो बंधे जिससे छोर, रेशा- रेशा जिसका [...]

आदमी

"खुद से है बेखबर होशियार आदमी, होड़ की दौड़ में है हजार [...]

“वन्दे मातरम”

"ये तीन रंग की धरा, केसरिया ,श्वेत,हरा। आँचल में इसके नदियाँ [...]

“फासला”

"अहसास वो अधूरा जताना जरुर था। हम बस तुम्ही से है बताना जरुर [...]