साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: RAJENDRA JOSHI

RAJENDRA JOSHI
Posts 9
Total Views 126

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

होली

रंग औ गुलाल कर, प्यार भर गाल पर, चंदन-कुंकुंम तर, माथे औ भाल [...]

मत बाँधों … मुझको !

मत बाँधों तुम समय में मुझको, मुझे उन्मुक्त जीवन सा बहने [...]

वेलनटाईन डे

1) दिन एक नहीं है काफी इज़हार-ए-इश्क के लिए, इक उम्र भी है [...]

जिंदगी

1. जिंदगी, मुश्किल ही सही पर, मजे़दार बहुत है ! 2. जिंदगी, तुम वो [...]

राखी

दीदी, जानता हूँ इस बार भी तुम नहीं भेज पाओगी, राखी ! पर जब तुम [...]

जिंदगी

माना कि कामयाबियों से अभी फ़ासलें बहुत हैं, पर ऐ जिंदगी, [...]

तुम

आलमारी में रखी किसी पुरानी तस्वीर की तरह, पहले कभी खोयी पर अब [...]

गज़ल

न छुपा मुझे तु कहीं, मैं कभी छुप न पाऊँगा, दरिया हूँ मैं, एक [...]

मित्र …… तेरे वो पत्र !

मित्र....... तेरे वो पत्र ! दूरिया भूगोल की उतनी नहीं फिर भी [...]