साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Rajan Kaushik (Yagya)

Rajan Kaushik (Yagya)
Posts 3
Total Views 176
I am a young poet from district Bijnor (U.P.). I am writing since 2009. I believe in expressing the deepest feeling of heart in a simple way so that a layman can understand it.

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

अभिलाषा

मेरे हृदय के तुम मंदिर में; कोई दीप जलाओ न; बरसों से यहाँ घना [...]

रूठे जब प्रेयसी

प्रेम में जब कभी रूठ जाए प्रेयसी, प्रेम से उनको आप मना [...]

मिरी ख़ुश्बू

रखना सहेज कर उसे जिसको संवारो तुम, हर किसी को हमसा बिखेरा [...]