साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)
Posts 31
Total Views 380
ऋषभ तोमर पी .जी.कॉलेज अम्बाह मुरैना बी.एससी.चतुर्थ सेमेस्टर(गणित)

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

लिख देना

नफरतों के बाजारों में तुम प्यार लिख देना बिखरती जुल्फ को [...]

मुक्तक

कही नफरत कही चाहत कही मुश्किल जमाने में खुदा का नूर बसता है [...]

मौत का सामान ही तो है

आज का जानलेवा प्यार ही तो है मेरी मौत का ये समान ही तो है ये [...]

गजल

किसी अपने ने मुझे इस तरह सताया गले से लगाकर मुझे मेरा घर [...]

खत

मोहबत में उनको हमने खतों को है भेजा उन्होंने भी हमको कई [...]

मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है

मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है कभी हँसती है मुझ [...]

धरती

चारो ओर सिर्फ बदसूरत सी थी धरती कही धूल तो कही धुंआ सी थी [...]

गर्मी

चारो ओर सिर्फ बदसूरती छाई आग के गोले सी तपन लाई धूल ,धूप,धुंआ [...]

नजर आता है

मुझे हर तरफ कुछ ऐसा नजर आता है कोई अपना मुझसे खफा नजर आता [...]

बचा कुछ नही

उन्होंने जब ठुकराया तो हुआ कुछ नही सासे रही मगर ज़िन्दगी में [...]

गजल

इस सरबती बदन को जरा दिखा दे मेरे तन मन मे जरा आग लगा दे मैं [...]

मुक्तक

चारों ओर नव तृणों की बहार आ गई पर्यवरण में हर जगह मुस्कान छा [...]

आंशू

नयन नीर कह रहा है साथी मन की पीर दिल का दर्द झलकता है बन आँख [...]

गजल

वो मुझ पर सितम ढाती रही रात भर मुझको जगाती रही काश दूर होती [...]

गीतिका

प्यार मेरा एक नदी था,वो बूँद हो गया मैं खुशियों का ताज था [...]

दो दिलो को जुदा कर गई,कॉम की ये कई बंदिशे

तेरी यादों में खोये हुये,शाम से फिर सुबह हो गई मुझको छत पर ही [...]

हो जाओ

मोहबत में गुलाब हो जाओ मंजर ए मेहताब हो जाओ इस तरह करो [...]

नही चाहता

सब कुछ त्याग कर मैं पत्थर नही बनाना चाहता इंसान ही ठीक हूँ [...]

गजल

चाहत में किसी को ठुकराया नही जाता है केवल रूह से रूह को [...]

छत पर चाँद

आज मेरी छत पर वो चाँद आया उसको देख आँखों को सुकून आया जब लबो [...]

गजल

दर्द के आलम में भी मुस्कुराया जा सकता है पत्थर पर कोमल फूल [...]

गजल

आँखो में ख्याबो को सजाती है चाहत सदा गिरते हुओं को उठती है [...]

गजल

जो जन्म से अंधा है वो देखना क्या जाने जो दिल से बेबफा है वो [...]

गजल

मेरी हर शाम खुशनुमा सी होगी जब तेरी पनाहों में ज़िंदगी [...]

गजल

आज चाँदनी रात में अंधियारी छा रही है लगता है वो छत पर बाल सूखा [...]

गजल

जमी से उस आसमाँ तक हर जगह देखलो जहाँ कोई दिल की सुनता हो उसको [...]

गजल

मुझे कुछ दूर एक मंजर नजर आता है मुझे खुद का घर जलता नजर आता [...]

तेरा साथ

तुम साथ थी मेरे जब तब बात ही अलग थी हर सुबह थी सुहानी हर साझ [...]

प्रेम की कहानी

मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है, कभी खुल के हँस रहा [...]

समझता हूँ

तेरे लव से निकलती हर जुबां को में समझता हूँ तेरे खामोस होने [...]