साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: pratik jangid

pratik jangid
Posts 18
Total Views 335

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

लेख (6 Posts)


ऐ….ज़िन्दगी

ज़िन्दगी में कुछ ना कुछ तो बेहतरीन जरूर कर लूंगा । ऐ…ज़िन्दगी [...]

डिअर डेयरी से मेरी बात

dear diary में तुमको यह बताना चाहता की तुमको मेने बनाया ताकि [...]

वो एक सीधी सी लड़की…..

तुम चुप थी तलाब की तरह । फिर लहरो की तरह बहने लगी ।। तुम खुश [...]

में भी कुछ करना चाहता हु

में भी कुछ करना चाहता हु , इक हुनर में भी सीखना चाहता हु, कुछ [...]

बेताब कलम

कलम भी चलने को बेताब हे . और लब्ज होटो से फिसलने को , अब तो कागज़ [...]

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम ये ख़ामोशी कुछ [...]