साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Prashant Sharma

Prashant Sharma
Posts 32
Total Views 1,210

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

*रक्षाबंधन*

*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान [...]

*रक्षाबंधन*

*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान [...]

*मेरा यार*

*मेरा यार* मेरा यार बड़ा ही सादा है दिल कहता है मुझसे उससे [...]

शिव कुंडलिया

मिले सभी को शिवकृपा,आया श्रावण मास। भूतनाथ इक फूल से, करते [...]

“लड़ता हूँ”

अब लड़ता नहीं यार जीतने के लिए। लङता हूं बस दिल बहलाने के [...]

“जीवन में हम”

दो शरीर एक श्वांस हैं हम, एक दूजे के खास हैं हम। दूर भले हम [...]

“चेहरे गाँवो के”

चेहरे गाँवों के हैं बदले जन-मन में स्वारथ का पहरा, हुई नदारद [...]

“छात्र”

छात्र देश की शान है,माने सकल जहान अवसर गर उसको मिले,बढ़े सभी [...]

“गरमी की दुपहरी”

गरमी की ये दुपहरी,बनी आग का ताज़। किरणों से तपती धरा,कैसे [...]

“माता”

*मातृदिवस पर माता के चरणों में समर्पित कुंडलिया* * [...]

“बादल”

बादल काले छाँय जब,अंबर में घनघोर। चातक गाते गीत नव,मोर मचाये [...]

“पर्यावरण”

रक्षित हो पर्यावरण,करना बस इक काम। वृक्ष लगायें हर तरफ, ले के [...]

“मजदूर”

मंजिल तुम्हारी रहा श्रम हमारा। करता रहा क्यों जमाना [...]

“सियासत”

सियासत का बस धर्म एक,सत्ता मिलें बस यार। मैं बैठा बेटा [...]

“अहंकार”

अहंकार से ना बचें, राजा रंक फकीर। दूजे सह खुद भी मिटें,घात होय [...]

“नयी सोच”

गीता और कुरान बना लो नयी सोच को, रामायण का गान बना लो नयी सोच [...]

“शब्द आराधना”

शब्द -आराधना करके बनता है महान मानव इससे ही सुनता है भाव [...]

“सच बेगाना”

मौसम की बहार में अब दगन हो गयी। दिलो में जेठ सी जलन हो गयी। पर [...]

“दीपक”

जिनके हो विचार ऊंचे ,कदम तो खुद बा खुद बढ़ जाते हैं। जग रोशन [...]

“मेरी जिंदगी”

मेरी जिंदगी कटीली झाडियो की उलझन बन गयी है। मानो डलियो की [...]

“मां”

माता सिंह पर सवार उनके नव अवतार। सुबह शाम उनको नमन हम करते [...]

“जिंदगी”

जिंदगी हमेशा मजबूर नहीं होती। किस्मत हमेशा भरपूर नहीं [...]

“हिंद की जय”

एक चिड़िया आसमां में,पंख फैला उड़ रही। हिंद की जय, हिंद की [...]

गधे का दर्द

एक गधे ने ब्रह्याजी को अपना अपना दर्द सुनाया। ब्रम्हण मुझ [...]

“युवा प्रेरणा”

हे युवा जाग कुछ करके दिखा दे कर्म ऐसा कर सारे जग को हिला [...]

“होली”

होली खेलो यार मीत ,यह बात मैं दिल से करता हूं। रंग में भर के [...]

प्रकृति

बादलों की गरजती ध्वनि में,बरसा की छमछम सुहानी लगती है [...]

“बाबुल का आंगन”

बाबुल का आंगन लगे ,प्यारा जहां बीता बचपन सारा। याद आती मेरे [...]

“संघर्ष”

संघर्ष करो संघर्ष करो संघर्ष हमारा नारा हो। जीवन पथ पर बढे [...]

“मानव”

मानव सृष्टि की सुंदर रचना कदम-कदम पर हमें है बचना। कर्म सदा [...]