साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Raj Vig

Raj Vig
Posts 25
Total Views 1,345

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मुकद्दर से हारा है तू

दामन को आंसुओं से कयूं भिगोता है तू कर्मो से नही मुकद्दर से [...]

दोस्त

बदला है रूप जिन्दगी ने दोस्तों ने चेहरे बदल लिये चलते थे जो [...]

रूप गज़ब है

ख्वाब लिये मै आंखों मे पहुंचा हूं उन गलियों मे जहां नाम [...]

सड़क किनारे

सिसकता सुबकता वो सारी रात रहा दो रोटी की जुगाड़ मे भटकता वो [...]

21वीं सदी का इन्सान

गली मे आज फिर लगी है भीड़ कत्ल हुआ है इन्सानियत का देखती रह [...]

गमो का बोझ

गमो का बोझ जब दिल से उठाया न गया आंखों से अश्कों का राज़ भी [...]

एक बार

करता रहा मै जिन पलों का इंतजार जिंदगी मे लौट कर नही आए, एक [...]

यादों के झोकें

यादों के तेरे जब झोकें चले आते हैं सांसों मे तेरी महकों के [...]

उम्र होगी जब आपकी

उम्र होगी जब आपकी लिखने की ख्वाहिश होगी आपकी एक हाथ मे कापी [...]

आंखें

मोटी मोटी बड़ी बड़ी वो खूबसूरत आंखें सुन्दर चेहरे पे लगती वो [...]

मेहनत के फल

गलती करते करते पहुंचेगा वो उस रस्ते जहां मिल जायेंगे उसे [...]

खूशियों के पल

जी भर के आज वो मुस्कराया है बाद मुद्दत के खूशियों का पल झोली [...]

जीवन की बाजी

पल दो पल के जीवन मे क्या खोया, पाया मैंने इन सब बातों को मै [...]

अजनबी

गुजरते हुए पल बोझिल से लग रहे हैं आशाओं के दीपक बुझते से लग [...]

दूर बहुत

दूर बहुत कोई चला गया न जाने कौन सी दुनिया मे वो बसर गया अपना [...]

गांव गांव मे शहर

गति प्रगति की तेज हो गयी रात दिन चौगुनी हो गयी नयी दिशा की [...]

प्रभु संदेश

प्रभु के दरबार मे आज इंसाफ हो रहा था दूध दूध पानी पानी हिसाब [...]

तेरा साथ

तू पास रहे या दूर रहे दिल मे बस तू वास करे जन्म जन्म तुझे [...]

राहें

खुद ब खुद बदल गयी हैं राहें मंजिल का पता बता रही हैं [...]

फेरा

कुछ नही जाना साथ मे मेरे न पैसा न बंगले मेरे न काया न बंदे [...]

सुबह सुहानी

किताबों मे खो जायेगी इक दिन मेरी कहानी घड़ियों की रफ्तार मे [...]

खुशबु

फूलों से निकल कर खुशबु कमरे मे आ रही थी हल्की हल्की भीनी [...]

शहर के लोग

मेरे शहर मे जो रहते है लोग अलग से वो सब लगते हैं लोग दूसरो को [...]

कर्म

कौन देखता है बार बार यही सोच कर हर बार इन्सान कर लेता है [...]

दिल की आवाज

रूह की आवाज को बहुत करीब से सुनने की कोशिश की है मैंने [...]