साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: निर्मला कपिला

निर्मला कपिला
Posts 71
Total Views 8,983
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

खुशी से जिसे था गले से लगाया। गजल ।

खुशी से जिसे था गले से लगाया उसी ने मुझे दर्द दे कर [...]

गज़ल

खुशी से जिसे था गले से लगाया उसी ने मुझे दर्द दे कर [...]

खुद को चोट लगाये कौन —— गज़ल

खुद को चोट लगाये कौन पत्थर से टकराये कौन दिल ये नित नित [...]

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं——- गज़ल

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं बहुत टूटी मगर बिखरी नहीं [...]

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल— दोहे

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस [...]

जीवन में कुछ खोया भी —– गज़ल

जीवन में कुछ खोया भी लेकिन ज्यादा पाया भी नफरत की चिंगारी [...]

दोहरे मापदंड –कहानी— निर्मला कपिला

दोहरे मापदंड --कहानी *देख कैसी बेशर्म है? टुकर टुकर जवाब दिये [...]

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया — गज़ल

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया अब लौट कर न आएगा कहकर चला [...]

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये—- गज़ल

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये तो मजहब धर्म सब उसके [...]

कवच ——कहानी –निर्मला कपिला

कवच ------कहानी पडोस के घर के बाहर कोई ऊँचे ऊँचे गालियाँ बक रहा [...]

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है उजड जाये अगर गुलशन [...]

रदीफों की वफा हो हासिलों से—- गज़ल

रदीफों की वफा हो हासिलों से गज़ल का नूर होता काफिओं से वही [...]

हाइकु

हाईकु साथ जो छूटा आसमान से जैसे तारा हो टूटा खून [...]

रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें —– गज़ल

---- रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें उसे हाल दिल का सुनाने की [...]

जीवन में कुछ खोया भी —– गज़ल

जीवन में कुछ खोया भी लेकिन ज्यादा पाया भी नफरत की चिंगारी [...]

वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है — गज़ल

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है न रूठे शाम, हाथों [...]

वक्त के पाँव——————– (कहानी )

वक्त के पाँव (कहानी ) गाँव की मिट्टी की सोंधी खुश्बू मे जाने [...]

मिड -डे मील —— कविता

मिड -डे मील पुराने फटे से टाट पर स्कूल के पेड के नीचे बैठे [...]

हवा का झोँका – (कहानी )

एक सत्य कथा पर आधारित जो आज भी जीवित हैं लेकिन आज के समय मे ऎसे [...]

आस्तित्व —— कहानी — निर्मला कपिला

आस्तित्व कागज़ का एक टुकडा क्या इतना स़क्षम हो सकता है कि [...]

गज़ल गुलकन्द सी मीठी लगे अन्दाज प्यारा है —- गज़ल

गज़ल गुलकन्द सी मीठी लगे अन्दाज प्यारा है अदावत है लियाकत [...]

भूख —- लघु कथा

भूख लघु कथा मनूर जैसा काला, तमतमाया चेहरा,धूँयाँ सी मटमैली [...]

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया — गज़ल

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया अब लौट कर न आएगा कहकर चला [...]

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह— गज़ल

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह झेलो' गम को जरा दिल्लगी की [...]

मैं नेता बनूंगा — कविता— हास्य व्यंग

मैं नेता बनूंगा एक दिन बेटे से पूछा ;बेटा क्या बनोगे?: कौन सा [...]

निकल कर कहां से ये आई खबर—- गज़ल

निकल कर कहां से ये आई खबर मै ज़िन्दा हूँ किस ने उडाई खबर हवा [...]

माँ की संदूकची —–कविता

माँ की संदूकची माँ तेरी सीख की संदूकची, कितना कुछ होता था [...]

दोहे

सब धर्मों से ही बडा देश प्रेम को मान सोने की चिडिया बने भारत [...]

दिल से एक पन्ना————- संस्मरण

दिल से एक पन्ना------------- संस्मरण एक दिन अपनी एमरजेन्सी ड्यूटी [...]