साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: निहारिका सिंह

निहारिका सिंह
Posts 14
Total Views 182
स्नातक -लखनऊ विश्वविद्यालय(हिन्दी,समाजशास्त्र,अंग्रेजी )बी.के.टी., लखनऊ ,226202।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कविता (9 Posts)


हिन्दी : माँ

स्वयं में सम्पूर्णता है हिन्दी हमारा गर्व हमारा [...]

पतझड़

लो फिर आ गया ..पतझड़ का मौसम फिर पत्तों से पेड़ों की बेरुखी [...]

नारी

मैं विवश नही अब , मैं आदिशक्ति की ज्वाला हूँ । मैं हूँ अमृत [...]

वीर भाई

हमारी रक्षा की जो कसमें खायीं हैं , वो वहाँ सरहद पर खड़ा निभा [...]

समर्पण

तुम संपूर्ण देश की आशा हो , तुम प्रति प्रस्फुटित भविष्य की [...]

जाग रहा है हिन्दुस्तान

आज विदेशों में भी अपना , गूंज उठा जन-गण-मन गान । अपनाकर पुनः [...]

स्वाभिमान

हाँ ! ठीक सुना तुमने नही चल सकती अब , एक और कदम तुम्हारे साथ [...]

कृषक

गरीबों को मोहताज अन्न के दाने हो रहे घर में चूहे जले ज़माने हो [...]

आत्मनिर्भरता

दहलीज के आधार ,पर स्त्रियों पर संस्कार के मानक तय हैं समाज के [...]