साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan
Posts 57
Total Views 5,602
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कविता (37 Posts)


ये मथुरा की धरती हैं साहब !

ये मथुरा की धरती हैं साहब! जीवित हैं यहाँ कृष्ण की [...]

स्याह दीवारें !

अपनी धरती के क्षितिज से कही भी देखता हूँ, कीड़े-मकोड़े सी [...]

साम । दाम । दंड । भेद !

भाई, सांई?, कम, कसाई! स्व, क्रुद्ध, कंठ, रुद्ध! चिन्त, चम्भ, [...]

चोटीकटवा !

अफवाहों को अगर थोड़ा दरकिनार करूँ, तो पाता हूँ की चोटी हर [...]

समय लगेगा !

झुकेगा दम्भ, समय लगेगा, हटेगा बंद , समय लगेगा गिरूंगा आज, [...]

क्योंकि मरना तुम्हारी हद हैं!

आँखे फाड़ लक्ष्य को ताड़, जिद पर अड़ दुःखों से लड़, काटों पर [...]

‘उनसे’ ज्यादा भुखमरे!

मेरे देश की लोकतंत्रीय चक्की में तुम घुन से लगे हो, तुम्हारी [...]

लगा, गलत हूँ! 😢

पता चली जो गलत लिखाई, लगा गलत हूँ तुमने हटा आरी सी चलाई, लगा [...]

तुम समझती क्यों नही माँ?

तुम्हारे एक आंसू की बूंद मेरेे दिल को चीर देती है, बढ़ा मेरी [...]

भैंस का दर्द! (एक गंभीर कविता)

धार्मिक अनुष्ठानों और तीक्ष्ण कानूनों से, गाय तो हो गयी हैं [...]

कन्यादान

नही कर्ण भी समता रखता नही कर्ण का दान महान, सब दानों से बढ़कर [...]

समयातीत

जीवन की वेदी पर दुखाग्नि के हवन में समय की आहुतियाँ देता [...]

और तुम कहते हो कि तुम सुखी हो !

तुम केवल बाहर से हँसते हो, दिखावटी.. अंदर से बेहद खोखले हो [...]

निकृष्ट कवितायेँ !

व्यापक नही हैं संकुचित हैं अब, 'कविताओं का दायरा' यहाँ अब भी [...]

कटुसत्य

चमक भी पैसा दमक भी पैसा आटा भी पैसा नमक भी पैसा नाम भी [...]

प्रेम की परिभाषा

प्रेम नहीं शादी का बंधन प्रेम नहीं रस्मों की अड़चन, प्रेम [...]

गरीब का ए. टी. एम्.

मेरे देश का गरीब, वह ए. टी. एम्. है जिसमे लगता है जब भी शासन की [...]

माँ और बाप

आस्थाओं की आस्था प्रेम की पराकाष्ठा निज का दफ़न ताप, माँ और [...]

आदमी की औक़ात

सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख [...]

मैं यूँ तो “भीष्म प्रतिज्ञ” नहीं !

मैं यूँ तो "भीष्म प्रतिज्ञ" नहीं, जो वचनों पर डटता आता .. हाँ [...]

कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया..

कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया, कभी जीत कर भी मुँह की खानी [...]

कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है?

कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है फिर भी ठंड का इतना मज़ा [...]

माँ तुम एयरपोट न आना.. .

सेना से गर फ़ोन जो आये मैं ना बोलू और बताये पागल सी तू पता [...]

तुम लगी घाव पर मरहम सी..

मेरे सुख दुख से परिचित सी एक गूढ़ नियंता बन बैठी, तुम लगी घाव [...]

प्रेम का ‘सैक्सी’करण !

जिस दिन मुन्नी की बदनामी को हंस कर देश ने स्वीकारा था जिस दिन [...]

‘साहित्यपीडिया’ का कहर !

बदस्तूर जारी हैं साहित्यपीडिया का कहर, इस कदर की कल तक जो [...]

माँ तेरे एहसान !

तेरा बचपन में मुझे पुचकारना मेरी गलतियों पर फटकारना, माथे [...]

हूँ रक्त मैं, तो भी विरक्त!

हूँ रक्त मैं, तो भी विरक्त! आखिर किस अकथ और अतृषित इच्छा के [...]

तुम्हारे जन्मदिन पर विशेष !

कभी कम ना हो सांसों की गिनतियाँ कभी कम ना हो जीवन के दिन कम, [...]

तेरा यूँ रूठ कर जाना ..

छतरपुर के झरोखों से, किसी की राह को तकना तेरे आने की चाहत में, [...]