साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan
Posts 32
Total Views 2,136
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

प्रेम की परिभाषा

प्रेम नहीं शादी का बंधन प्रेम नहीं रस्मों की अड़चन, प्रेम [...]

दोस्ती में कचरा !

वो कोन था? राजेश ने सहमकर पूछा। "वो..वो दोस्त है।" "क्या सच में [...]

गरीब का ए. टी. एम्.

मेरे देश का गरीब, वह ए. टी. एम्. है जिसमे लगता है जब भी शासन की [...]

माँ और बाप

आस्थाओं की आस्था प्रेम की पराकाष्ठा निज का दफ़न ताप, माँ और [...]

मिला हूँ जो तुझमे, तो तेरी छवि हो गया हूँ ..

मिला हूँ जो तुझमे, तो तेरी छवि हो गया हूँ ढलते उजालों का जैसे, [...]

आदमी की औक़ात

सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख [...]

मैं यूँ तो “भीष्म प्रतिज्ञ” नहीं !

मैं यूँ तो "भीष्म प्रतिज्ञ" नहीं, जो वचनों पर डटता आता .. हाँ [...]

कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया..

कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया, कभी जीत कर भी मुँह की खानी [...]

कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है?

कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है फिर भी ठंड का इतना मज़ा [...]

फिल्मों वाले अपराधी !

फुटपाथों पर सोने वाले, आज खून के आंसू रोते, समझ गये हैं [...]

माँ तुम एयरपोट न आना.. .

सेना से गर फ़ोन जो आये मैं ना बोलू और बताये पागल सी तू पता [...]

तुम लगी घाव पर मरहम सी..

मेरे सुख दुख से परिचित सी एक गूढ़ नियंता बन बैठी, तुम लगी घाव [...]

प्रेम का ‘सैक्सी’करण !

जिस दिन मुन्नी की बदनामी को हंस कर देश ने स्वीकारा था जिस दिन [...]

कहानी : अनसुलझी पहेली

"कल सुबह तुमसे मैट्रो पर मिलना है" किशन की ख़ुशी का ठिकाना नहीं [...]

‘साहित्यपीडिया’ का कहर !

बदस्तूर जारी हैं साहित्यपीडिया का कहर, इस कदर की कल तक जो [...]

माँ तेरे एहसान !

तेरा बचपन में मुझे पुचकारना मेरी गलतियों पर फटकारना, माथे [...]

चुपके से निखरी रातों में. .

बिन बारिश के मौसम में, तेरा बरसना मुझे याद हैं उन दो कजरारी [...]

बिना मेरे अधूरी तुम..

मेरा हर सुर अधूरा हैं, अधूरी गीत की हर धुन, स्वप्न वो तुम नहीं [...]

हूँ रक्त मैं, तो भी विरक्त!

हूँ रक्त मैं, तो भी विरक्त! आखिर किस अकथ और अतृषित इच्छा के [...]

तुम्हारे जन्मदिन पर विशेष !

कभी कम ना हो सांसों की गिनतियाँ कभी कम ना हो जीवन के दिन कम, [...]

तेरा यूँ रूठ कर जाना ..

छतरपुर के झरोखों से, किसी की राह को तकना तेरे आने की चाहत में, [...]

तेरी यादों से कभी ना जाऊंगा मैं ..

माना की वो किस्से पुराने हुए, दूर तुझसे मिलने के बहाने हुए [...]

कपकपाते हैं हाथ मेरे..

कपकपाते हैं हाथ मेरे, जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में याद आते [...]

मैं बस एकबार..

मैं बस एकबार मिलना चाहता हूँ तुमसे , ओ मेरे दिलदार.. भुलाकर [...]

कागज़ के टुकड़े

बड़े लोग, अब नही घुसते हैं मेरी गलियों में बैठते नही है, ना ही [...]

चक्रव्यूह और मैं !

अब भी कुछ बिगड़ा नहीं हैं, इतना समय गुज़रा नहीं हैं पता नहीं की [...]

कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं..

कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं, प्रेम फिर भी इबादत से, कम [...]

अब मैं पुराने गांव को तरसता हूँ …

कटा जो पेड़ मेरे आँगन से उसकी छाँव को तरसता हूँ, अब मैं [...]

वक़्त की ताकत !

वक़्त ही सबको हँसाता, वक़्त ही सबको रुलाता वक़्त ही कुछ घाव [...]

किसान का दर्द

बदल गया है फ़ैशन सारा; बदल गया दुनिया का हाल, बदला नहीं किसान [...]