साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Neelam Ji

Neelam Ji
Posts 43
Total Views 9,187
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

*वो हम नहीं *

राह से भटक जाएं वो हम नहीं । हार के बैठ जाएं वो हम नहीं ।। डर [...]

* मर्द *

मर्द कभी नारी को बेइज्जत नहीं करते । अपनी माँ की कोख को [...]

** आँसू **

रिश्ता आँसू का नयनों से गहरा , पलकें देती आँसू का पहरा । बात [...]

*हंसते रहो हंसाते रहो,गीत ख़ुशी के गाते रहो *

हंसते रहो हंसाते रहो ... गीत ख़ुशी के गाते रहो ... सुख दुःख आने [...]

*जिंदगी एक जंग*

हर किसी को नहीं मिलता साथ अपनों का , जंग जिंदगी की अकेले ही [...]

**कामयाबी**

यूँ ही मिलती नहीं मुफ़्त में कामयाबी ! एक जुनूँ सा दिल में [...]

* दिल की ख्वाहिश *

दिल कहे मैं झूम लूँ , सारी दुनिया घूम लूँ । कोई ख्वाहिश रहे [...]

*हर दिल अजीज हम बन पाएं *

हे भगवन् बस इतनी इनायत हो जाए । गलती से भी गलती ना हो पाए । सदा [...]

**औरत का सम्मान हम सबका सम्मान**

माँ बहन बेटी बहु ये रूप अनेकों रखती है ! कोमल कोमल दो हाथों से [...]

** दुआ **

** दुआ ** यूँ ही बेवजह ख़ुशी जब अपने भीतर पाया करो ...! कोई कर रहा [...]

**❤तुम्हीं हो प्यार मेरा❤**

तुम्हीं हो प्यार मेरा तुम ही पहला अहसास हो! तुम से मिलकर जाना [...]

**जिंदगी है दो पल की**

जब से जिंदगी को जाना है, बस इतना ही पहचाना है । जिंदगी है दो पल [...]

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से [...]