साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Neelam Sharma

Neelam Sharma
Posts 236
Total Views 2,666

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कृष्ण

हे वासुदेव केशव सर्वपालक तुम्हारा क्या मैं अर्थात [...]

कृष्ण

हे वासुदेव केशव सर्वपालक तुम्हारा क्या मैं अर्थात [...]

तिरंगा

हाइकु तिरंगा थाम तिरंगा निडर शूरवीर शहीद होते। [...]

तिरंगा

शत शत नमन हे ध्वज तिरंगे, किया जो स्वतंत्रनाद घोष। मना रहें [...]

पूजन

आज उठी उर पीर अति,नयन सजल मम होय। बीता जीवन बस तुम्हीं,बिलख [...]

एहसास

ये जो एहसास है अद्भुत अद्वितीय और ख़ास है। जश्न है,महफिल [...]

छोड़ जाऊंगा।

ये न सोचा था कि राहे ज़िन्दगी में,ऐसे भी मोड़ पाऊंगा, फकत [...]

गज़ल

तेरी रुसवाई का अंधेरा लिए, दिल मेरा दिया सा रात भर जलता रहा [...]

राखी

राखी हाइकु स्नेह की डोरी, अटूट ये बंधन, [...]

स्वाभिमान

स्वाभिमान को मारकर जीना यह न तुम स्वीकार् करो ओरों के उपकार [...]

मत जाना

सादर प्रेषित स्वरचित मिले हमदम हम मुश्किल से, कि मुख तुम [...]

चांद

अनंत अपार नीले अंबर में में देखो चंद्रमा रह रहा। बादलों संग [...]

गीत

काफियाःते रदीफः हैं। सुमन, पुष्प बागबां में नवनीत ही खिलते [...]

उम्र भर

उम्र भर तेरी धड़कन सुन मैं बोल उठी, तेरी सांसों पर मैं डोल [...]

गहरा

आंख से गहरा भी सागर कौन है? पूछने पर जवाब न मिला, देखो सारी [...]

जन्नत

कहां ढूंढता मानव तू ,उक़बा, ख़ुल्द,बहिश्त और [...]

एक भारत श्रेष्ठ भारत

अद्वितीय अद्भुत अतुल्य अगम्य, भारत राष्ट्र हमारा [...]

एक भारत श्रेष्ठ भारत

अद्वितीय अद्भुत अतुल्य अगम्य, भारत राष्ट्र हमारा [...]

गज़ल

निवेदन, गुज़ारिश, इल्तज़ा हैं अद्भुत,अद्वितीय प्रयास [...]

निवेदन

निवेदन, गुज़ारिश, इल्तज़ा हैं अद्भुत,अद्वितीय प्रयास [...]

सावन

सावन दोहे हरित चुनर वसुधा सजे, कर सोलह श्रृंगार। छाती सावन [...]

किस्मत

कभी किस्मत हम पे रोती है, कभी हम किस्मत पर रोते । फ़िर भी [...]

रदीफ़-रह गया

रदीफ़- रह गया। जाने कहां गए वो लम्हे इक जर्जर किला था ढह [...]

गज़ल

करने रजनी को धवल शीतल, रात भर तारे नभ में हैं चमकते । विरह [...]

कविता

इतराती बलखाती पनघट को जाती शीश गगरिया थाम। गागर धर मटकाय [...]

गज़ल

रदीफ़- हम हैं। इन्द्रधनुषी रंग तुम हो सनम,माना खुशरंगों [...]

गज़ल

है पुर्वा झूमती मदमाती ज्यूं बर्खा के संग, हां दो दिलों को [...]

शक

शक"एक लघु कथा कहते हैं शक का इलाज तो हकीम लुक़मान के पास भी [...]

हंसी

हाइकु मन सिसका देख नीड़ पराया हंसना भूली। फेन झाग [...]

रास्ते

हाइकु रास्ते ( १) चला कारवां, नहीं मिलीं मंजिलें, [...]