साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Naval Pal Parbhakar

Naval Pal Parbhakar
Posts 35
Total Views 269

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

हवा की आवाज

*हवा की आवाज* पंखे की तेज हवा से सुबह के सुनसान मंजर में [...]

बीती बातें

बीती बातें बहुत दिनों के बाद आज गांव की याद आने लगी हैं। काम [...]

रास्ते का पेड़

रास्ते का पेड़ अनगिनत मुसाफिर आए इस रास्ते से मैं उन्हें [...]

सजी धरा

सजी धरा आज धरा सजी संवरी सी मिलने चली प्रियतम से छिडक़ [...]

बीती बातें

बीती बातें बहुत दिनों के बाद आज गांव की याद आने लगी हैं। काम [...]

शादी

शादी आजकल शिक्षा इतनी महत्वपूर्ण हो गई है कि उसके बिना तो [...]

नींद कोसों दूर

नींद कोसों दूर आज मैं, अपने घर के उसी पुराने चौक में खाट के [...]

धूप

धूप बहुत दिनों के बाद आज फिर सजधज कर सुन्दर बाला, बैठ गई है [...]

स्त्री

स्त्री महिला सशक्तिकरण, अबला नारी, नारी शक्ति पहचानो । कुछ [...]

क्षणभंगुर शादी की खुशी

क्षणभंगुर शादी की खुशी एक दिन मैं दौड़ता हुआ, न जाने [...]

प्रकृति

प्रकृति प्रकृति ने देखो हमें दिया है अनोखा उपहार, हर जगह [...]

दूसरा जन्म

अधेड़ उम्र की औरत गांव से बाहर काफी दूर एक बड़े से बरगद के [...]

गरीब बेरोजगार

गरीब बेरोजगार मेरे घर में तीन आंखें तीनों निस्तेज, भावना [...]

मौत खरीदता युवक

मौत खरीदता युवक एक बार मैं एक ट्रेन से कहीं बाहर से आ रहा था । [...]

नौ कन्या

नौ कन्या आज सुबह ही बीवी ने मेरी मुझे धंधेड़ा और उठाया [...]

विनाश और रचना

विनाश और रचना ब्रह्माण्ड में पृथ्वी से कण कितने हर कण में [...]

मेरे गीत

मेरे गीत मेरे गीत तुम्हारे पास स्वर मांगने आयेंगे । कंठ पर [...]

धरती

धरती मैंने उसको जब भी देखा, खिलते [...]

हिन्दी साहित्य

हिन्दी साहित्य साहित्य के अथाह सागर में डुबकी लगाना [...]

वतन की ओर वापसी

वतन की ओर वापसी एक अधेड़ उम्र, सफेद बाल, कमर से झुकी, बार-बार [...]

मौत खरीदता युवक

मौत खरीदता युवक एक बार मैं एक ट्रेन से कहीं बाहर से आ रहा था । [...]

विज्ञान तेरी जय

विज्ञान तेरी जय मैं और मेरे दोस्त सभी लोग एक बगीचे में घुमने [...]

जंगल में महासभा

जंगल में महासभा आज जंगल में एक महासभा होने वाली है । जंगल के [...]

दूसरा जन्म

दूसरा जन्म अधेड़ उम्र की औरत गांव से बाहर काफी दूर एक बड़े [...]

मांग

मांग कॉलेज के पिछे वाले ग्राऊंड में बहुत सारे पेड़ों के बीच [...]

चूहे से सीख

चूहे से सीख बहुत पुरानी बात है । एक घर में शादी थी । उस घर की [...]

देश का भविष्य

देश का भविष्य एक युवा अधेड उम्र शख्श अपनी पत्नी बच्चों सहित [...]

तेरी जय हो

तेरी जय हो हे अन्नदात्री, हे सुखदात्री हे जन्मभूमि, हे [...]

बसंत जी

बसंत जी। पैराें में मखमली जूतियां सिर पर पगड़ी फूलों की [...]

बेटी

गरीब की बेटी एक गरीब की लक्ष्मी बेटी उसे ओर कंगाल बना जाती [...]