साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: naman jain naman

naman jain naman
Posts 4
Total Views 127

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

क्रांतिकारी मुक्तक

बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ १२२२* कभी अंग्रेज़ का हमला, कभी अपने पड़े [...]

क्रांतिकारी

विषय- *क्रान्तिकारी* विधा- *मुक्तक* बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ [...]

बेरोजगारी

जनसंख्या के कोप का भाजन नौजवान बन जातेे है। रोजगार की चिंता [...]

रिश्ता

विषय- *रिश्ता* रिश्तों का अब कत्ल हो रहा सरेआम बाज़ार [...]