साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Ranjana Mathur

Ranjana Mathur
Posts 127
Total Views 5,344
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र "कायस्थ टुडे" एवं फेसबुक ग्रुप्स "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं "प्रयास" में अनवरत लेखन कार्य। लघु कथा, कहानी, कविता, लेख, दोहे, गज़ल, वर्ण पिरामिड, हाइकू लेखन। "माँ शारदे की असीम अनुकम्पा से मेरे अंतर्मन में उठने वाले उदगारों की परिणति हैं मेरी ये कृतियाँ।" जय वीणा पाणि माता!!!

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

बोए पेड़ बबूल के

विधा---- कविता -जापानी शैली की कविता - हाइकु =बोए पेड़ बबूल के [...]

आएगी सबकी बारी

==आएगी सबकी बारी== जो घर में रख न सके तुम अपनों को कभी अब गैरों [...]

दिन बचपन के

मुझे याद आया अपना बचपन, दर्पण में जब देखा प्रतिबिम्ब। कहा [...]

मेरा बंगला

मोनू दोस्तों से तन कर बोला-"फिकर न कर मैं ले आता हूँ तेरी [...]

ऐ हिमालय सुन मां का दर्द

एक सजग प्रहरी की शहादत पर एक दुखिया माँ का प्रश्न---- ऐ [...]

बच्चा

ईश्वर की सबसे अनमोल कृति है बच्चा। किसी ने पूछा मुझसे कि [...]

मन कहे मेरा

**** माँ मुझको दूसरे घर नहीं जाना है। मां मैं तो थी तेरे दिल का [...]