साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Ranjana Mathur

Ranjana Mathur
Posts 100
Total Views 3,297
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र "कायस्थ टुडे" एवं फेसबुक ग्रुप्स "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं "प्रयास" में अनवरत लेखन कार्य। लघु कथा, कहानी, कविता, लेख, दोहे, गज़ल, वर्ण पिरामिड, हाइकू लेखन। "माँ शारदे की असीम अनुकम्पा से मेरे अंतर्मन में उठने वाले उदगारों की परिणति हैं मेरी ये कृतियाँ।" जय वीणा पाणि माता!!!

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

गज़ल/गीतिका (7 Posts)


दर्द बुरा होता है

धीरे-धीरे ही तेरी सच्चाई का ,पता होता है ऐ [...]

बीती यादों के बसेरे

तन्हा रातों में बिसरी यादों को आवाज दे बुला रहा हूँ [...]

हसरत है मेरी

बिन तेरे अब तो गुजारा कहीं नहीं मेरा, भरी महफ़िल में रहकर भी [...]

== वक्त को पहचान लिया हमने ==

तेरे गरूर को तो करके यूँ टुकड़े-टुकड़े, हमने भी तेरे उस भरम [...]

अहसास अनजाना

कौन अनजाना-सा हमें याद यूं आ जाता है। पलकों को फिर से यूँ हर [...]

हम अकेले

आज फिर दिखने लगा अक्स तेरा धुंधली यादों के झमेले में। तुम [...]

याद जब आती है

## # गज़ल ### बारिशों की बूंदें यूंँ मायूस बनाती हैं मुझे। [...]