साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Satish Mapatpuri

Satish Mapatpuri
Posts 19
Total Views 221
I am freelancer Lyricist,Story,Screenplay & Dialogue Writer.I can work from my home and if required can comedown to working placernfor short periods...I can Write in Hindi & Bhojpuri.Having 30 years experience in this field.rn

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

हद होती है

आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है . ज़ुल्म करे वो , सहन [...]

नारी और धरती

नारी - धरा की कहानी अजीब है . सब कुछ सहना ही उसका नसीब है . नारी [...]

ये कैसा शरारा है.

दरिया में ही ख़ाक हुए, ये कैसा शरारा है. साहिल पे ही डूब गए, ये [...]

मेघा

घिर - घिर आये मेघा चमके , बदरी में बिजुरी . चंचल पवन उड़ाये रही - [...]

कल्पना

ऐ कवि-शायर! कहाँ तुम छिप कर बैठे हो. ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी [...]

नई नवेली नारि

नई नवेली नारि अकेले पावस में ससुराल बसे. बारिश की बूंदे उसको- [...]

अगर पूर्वजों के उतारे न होते .

अगर रंग - बिरंगे ये नारे न होते. तो फिर हम भी इतने बेचारे न होते [...]

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे . आँखें नम थी मगर मुस्कुराते [...]

थमते कदम आ जाइये

चाँद नभ में आ गया, अब आप भी आ जाइये. सज गई तारों की महफ़िल, आप भी [...]

गुरुवर तुम्हें नमन है

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम . जिसने सिखाया हमको , कविता [...]

वह राम है – रहमान है

हम उसे कुछ भी कहें, वह राम है- रहमान है . कह लो तो सावन भी है, कह [...]

पुलिस आ रही है

यूं तो छमिया रोज़ ही हाट से सब्जी बेचकर दिन ढले ही घर आती थी, [...]

प्रेम – दोहावली

उमर थकाये क्या भला, मन जो रहे जवान. बूढ़ी गंडक में उठे , यौवन का [...]

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे . आँखें नम थी मगर मुस्कुराते [...]

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .

नयना ! बिन कहे सब कह जाता . ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो [...]

जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .

यूँ ना खेला करो दिल के ज़ज्बात से . जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से [...]

दोहे

पढ़कर के अखबार अब , पुरखे भी हैरान . बढ़िया है बानर रहे , बने न हम [...]

मिशन इज ओवर

अनायास विकास एक दिन अपने गाँव लौट आया. अपने सामने अपने बेटे [...]

मिलन का प्रथम प्रहर

चारुलता सी पुष्प सुसज्जित, चंद्रमुखी तन ज्योत्स्ना. खंजन- [...]