साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल
Posts 252
Total Views 3,064
मैं भूरचन्द जयपाल वर्तमान पद - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिन्दी रचनाये 9928752150

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

*** ये क्या कम है ****

आँख नम है तेरे नाम से ये क्या कम है मुहब्बत तुमसे तेरे नाम से [...]

**** थक गया हूं आज मैं *****

************ थक गया हूं आज मैं संग भीड़ के चलता हुआ ********** ***** प्यार की [...]

*** जज्बा देशभक्ति का ***

जज़्बा देशभक्ति का बना रहे जवानों में भय बना रहे सदा मुल्क [...]

* मेरा मन मचल गया *

अब मेरा मन मचल गया अब मेरा दिल फिसल गया मेरे हाथ से कब पता [...]

* साये से डरते रहे हम *

यूं ख़्वाब सजाते रहे हम यूं दिल बहलाते रहे हम जब से ख़्वाब बन [...]

*जिंदगी कही गलतफहमियों का नाम तो नहीं*

जिंदगी कहीं गलतफहमियों का नाम तो नहीं जीवन में ज़हर घोलना [...]

*मेरी साफ़गोई*

मेरी साफ़गोई कभी भी मुझको धोखा दे सकती है तेरी तारीफ़ कभी [...]

* अंतर से *

मंथन मेरे मन में चल रहा आज अंतर से वो क्योंकर दीवानी मेरी [...]

वो मुझको सताने लगी है

आज मुझे मेरी तन्हाई भाने लगी है ना जाने क्यूं मुझे वो चाहने [...]

*कुछ बातों को अनकहे की रहने दो*

कुछ अनकहे ख्वाब रहने दो आँखों की बात आँखों को कहने दो [...]

* सब्र कर *

सब्र कर ये तेरे इम्तिहान की घड़ी है रात अब इंतेजार की दो चार [...]

*नादान तितलियां*

नादान तितलियां समझती है कि मरता भ्रमर हम पर ले मकरन्द भ्रमर [...]

*बेताब*

बेताब तेरे दिल को इस क़दर कर दूंगा आयेगी मेरी याद ऐसा जादू कर [...]

*मेरी रूह को मत आज़ाद कर*

मेरी रूह को मत आज़ाद कर तेरे आंचल में रख यूं छुपाकर शीत [...]

* मैं महक हूं *

मैं महक हूं बस तूं मुझे महसूस कर दूर हूं पर पास दिल से महसूस [...]

**नक़ाब**

खूबसूरत दिल को नकाब की आवश्यकता नहीं नकाब तो झूठे लोग [...]

*राज-ए-हुस्न*

यूं राज-ए-हुस्न कब तक छुपाओगे मुझसे हुस्न की बारीकियां [...]

*डार्लिंग*

डार्लिंग इससे तो हम कुंवारे ही अच्छे थे कम से कम तुम्हें [...]

*सावन के महीने में*

*********👍 🎂👌*********** सावन के महीने मेँ रिमझिम ये बरसे बरखा का [...]

मजनूं सा ये दिल

आजकल मजनूं सा ये दिल उदास रहता है ना नहाया ना धोया बडा [...]

जोकर

जिंदगी रंग बिरंगी यह बताता है जोकर कभी हंसाता कभी रुलाता [...]

* आहत हताहत *

आहत हताहत हुआ नहीं आज कौन अल्फाज़ो से चाहत-शिकायत ना हो आजमा [...]

* जिंदगी अगर शायरी होती *

जिंदगी अगर शायरी होती ना तुम मुझसे यूं दूर होती अहसास हरदम [...]

* गुस्ताख़ ये दर्द *

गुस्ताख़ ये दर्द अब हमें जीने नहीं देगा पी-पी के हारे ज़ाम अब [...]

* मौन गुस्ताखियां *

ये मौन गुस्ताखियां उसकी मुझे भाने लगी है क्या वो मुझको दिल [...]

*ये तेरी जुल्फ उठा दूं *

ये तेरी ज़ुल्फ़ उठा दूं तो शर्मसार हो जाये तूं ये तेरी ज़ुल्फ़ [...]

****बेटियाँ***

04.01.17 **बेटियाँ** सांय 6.48 *************** बेटियाँ बाबुल के बगीचे की शान [...]

*हम निम्न क्यों ? *

हम निम्न क्यों ? **************** हम निम्न इसलिए हैं क्योंकि हमनें [...]

*कितने रोज*

कितने रोज तरसे हम आज बड़े इंतजार के बाद बरसे तुम तुम [...]

शीर्षक- क्या मुहब्बत है *

क्या मुहब्बत है कभी हमने तुमसे की कभी तुमने हमसे की ना [...]