साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल
Posts 384
Total Views 9,748
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कविता (136 Posts)


*** यू एण्ड मी ***

यू एण्ड मी सम डिस्टेंस यू एण्ड मी फिजिकली नॉट [...]

*होश खोकर जिंदगी कभी अपनी नहीं होती*

मत कर खत्म जिंदगी की महक महखाने में जाकर लौट कर जब तलक [...]

** उस वेवफा से क्या कहें **

उस वेवफा से क्या कहें हाल -ए -दिल अपना जिसे हाल-ए-दिल खुद [...]

** बादळी सुहावणी **

दिवाळी ने दीप जलास्यां बाती करसी रात्यां राती । इब आवण [...]

**** आघात ****

पहुंचा हो आघात अकारण किसी को मेरे कारण आज मैं करता हूं [...]

*** सवेरा ***

कल जब मै नींद से जागा तो सूरज निकल चुका था सौचा सवेरा हो [...]

**** तबस्सुम ***

तबस्सुम कब तलक नजरों से मेरी दूर रह पाओगी कब तलक निगाहों [...]

*** प्लीज हमें ब्लॉक कर दें ***

5.7.17 ** प्रातः ** 8.55 हसीनाओं से गुजारिश है प्लीज़ हमें ब्लॉक कर [...]

**** हूं रूख मरुधरा रो ****

हूं रूख मरुधरा रो केर नाम है म्हारो विषम सूं विषम टेम में [...]

*** तौबा इन इश्कवालों से ***

कब तलक बरसने का इंतजार करते रहे तुम आज तुम ही कहते हो बस [...]

**** आज भी मेरे अक्स को संभाले है ये तेरी आँखें ****

28.7.17 **दोपहर** 3.31 आज भी मेरे अक्स को संभाले है ये तेरी आँखें देख [...]

🎂💐पहली सुहागरात💐🎂

तेरी मेरी वो पहली मुलाकात और सुहाग की वो पहली रात जब [...]

*** हमारा दिल ***

हमारा दिल अब शीशे का नहीं है जो ठेस लगने से [...]

*** महारथी से बडा सारथी ***

हे अर्जुन क्यों करता है अभिमान महा-रथी से बडा सा-रथी होता [...]

*** आप वही हैं जो है ***

15.7.17 ** दोपहर ** 2.45 आप वही हैं,जो है,फिर क्यों डरते हो डरते हो,फिर [...]

*** लोगों के मुख विवर्ण हो गये ***

9.7.17 ** प्रातः 11.01** कल के अवर्ण क्यों सवर्ण हो गये लोगों के मुख [...]

**** प्रेम -मंदिर ****

लोग कहते हैं रिश्ते रूहानी होने चाहिए प्यार सिर्फ [...]

*** मैं अभिमन्यु ***

2.7.17 ** रात्रि ** 10.25 मैं अभिमन्यु हर रोज चक्रव्यूह भेद निकलता [...]

**** जिंदगी जिंदगी होती है ****

जिंदगी जिंदगी होती है दौलत तो एक खिलौना है कभी हम खेलते हैं [...]

*** बूंद बूंद सिंचाई ***

7.6.17 दोपहर 1.41 मैंने बूंद-बूंद सिंचाई कर प्यार को [...]

** कथा- कहानी **

ग़ज़ल कहूं या गीत कहूं ये रीत पुरानी आई है कहता आया हूं [...]

कविता :- पेड़ो के झुरमुट में

💐पेड़ो के झुरमुट में 💐 🎂🎂🎂🎂🎂🎂 विस्फारित नयनो से ढूढ़ता [...]

*** ऐ जानेमन ***

22.5.17 **रात्रि** 10.31 चाहत छुपाकर क्यों होते हो आहत रखोगे इस क़दर [...]

*** ये दिल आपकी सम्पति है ***

ये दिल आपकी सम्पति है जब तुम चाहो सो तोड़ दो लेकिन [...]

*** अफ़साना ***

अफ़साना फ़लक से गिरती हुई उस शबनमी-शै का क्या कहें पलक से [...]

*** मूर्ख कौन ? **

3.5.17 ***** रात्रि 11.7 देश के सैनिकों को समर्पित मेरी प्रथम रचना [...]

** तेरी मोहब्बत बडी बेलगाम है **

तेरी मोहब्बत बडी बेलगाम है प्यार के तांगे में जुतकर भी [...]

*** त्रिशंकु जिंदगी ***

मुसाफ़िर को जाना किधर था रोका घर के मोह ने उसे था क्या पता था [...]

* ये राजनीति अब बन्द होनी चाहिए *

14.4.17 **** प्रातः 9.30 ये राजनीति अब बन्द होनी चाहिए ये राजनीति अब [...]

* विश्व ने माना जिसका लोहा *

ज्ञानदिवस की पूर्वसन्ध्या पर ज्ञानपुरुष को उनके जन्मदिवस [...]