साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल
Posts 343
Total Views 6,636
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कविता (126 Posts)


*** हमारा दिल ***

हमारा दिल अब शीशे का नहीं है जो ठेस लगने से [...]

*** महारथी से बडा सारथी ***

हे अर्जुन क्यों करता है अभिमान महा-रथी से बडा सा-रथी होता [...]

*** आप वही हैं जो है ***

15.7.17 ** दोपहर ** 2.45 आप वही हैं,जो है,फिर क्यों डरते हो डरते हो,फिर [...]

*** लोगों के मुख विवर्ण हो गये ***

9.7.17 ** प्रातः 11.01** कल के अवर्ण क्यों सवर्ण हो गये लोगों के मुख [...]

**** प्रेम -मंदिर ****

लोग कहते हैं रिश्ते रूहानी होने चाहिए प्यार सिर्फ [...]

*** मैं अभिमन्यु ***

2.7.17 ** रात्रि ** 10.25 मैं अभिमन्यु हर रोज चक्रव्यूह भेद निकलता [...]

**** जिंदगी जिंदगी होती है ****

जिंदगी जिंदगी होती है दौलत तो एक खिलौना है कभी हम खेलते हैं [...]

*** बूंद बूंद सिंचाई ***

7.6.17 दोपहर 1.41 मैंने बूंद-बूंद सिंचाई कर प्यार को [...]

** कथा- कहानी **

ग़ज़ल कहूं या गीत कहूं ये रीत पुरानी आई है कहता आया हूं [...]

कविता :- पेड़ो के झुरमुट में

💐पेड़ो के झुरमुट में 💐 🎂🎂🎂🎂🎂🎂 विस्फारित नयनो से ढूढ़ता [...]

*** ऐ जानेमन ***

22.5.17 **रात्रि** 10.31 चाहत छुपाकर क्यों होते हो आहत रखोगे इस क़दर [...]

*** ये दिल आपकी सम्पति है ***

ये दिल आपकी सम्पति है जब तुम चाहो सो तोड़ दो लेकिन [...]

*** अफ़साना ***

अफ़साना फ़लक से गिरती हुई उस शबनमी-शै का क्या कहें पलक से [...]

*** मूर्ख कौन ? **

3.5.17 ***** रात्रि 11.7 देश के सैनिकों को समर्पित मेरी प्रथम रचना [...]

** तेरी मोहब्बत बडी बेलगाम है **

तेरी मोहब्बत बडी बेलगाम है प्यार के तांगे में जुतकर भी [...]

*** त्रिशंकु जिंदगी ***

मुसाफ़िर को जाना किधर था रोका घर के मोह ने उसे था क्या पता था [...]

* ये राजनीति अब बन्द होनी चाहिए *

14.4.17 **** प्रातः 9.30 ये राजनीति अब बन्द होनी चाहिए ये राजनीति अब [...]

* विश्व ने माना जिसका लोहा *

ज्ञानदिवस की पूर्वसन्ध्या पर ज्ञानपुरुष को उनके जन्मदिवस [...]

** साथण म्हारी **

क्यूं दाबे है पांव बावळी तूं तो साथण म्हारी है लोग देख अचरज [...]

* हवाऐं बन्द कमरे की *

मैं उन्मुक्त हवाओं में घूमना चाहता हूं मैं घटाओं को देखकर [...]

* ये जीवन दो दिन का मेला *

मन काहे का गुमान करे, ये जीवन दो दिन का मैला फिर मन काहे [...]

** भीम लक्ष्य **

8.4.17 ***** रात्रि 11.21 भीम लक्ष्य था उस महा मानव का जिसने झेली [...]

** मैं शब्द-शिल्पी हूं **

मैं शब्द-शिल्पी हूंउ शब्दो को जोड़ता हूं मैं विध्वंसक नहीं [...]

*** मानवता की मौत ***

आद्रो हुआ है जबसे अपरा अवनि पर बुरी प्रमिति का जन्म हुआ भयसी [...]

** मण्डप में पहुंचने से पहले **

1991 में दहेज प्रथा पर लिखी कविता मण्डप में पहुंचने से पहले [...]

** कैसी ख़ामोशी **

मैं खामोश हूं, पर जुबां बोलती है जुबां जो कहती है,वह मन की [...]

** प्रिया **

प्रिया चली गयी,कहां गई ? क्यों चौंकता है तूं ? हां यहीं है खोल [...]

* यही है क्या तुम्हारा समाज *

जिसे तुम कहते हो समाज पर वो नहीं है सम आज दीवारें खींच दी है [...]

** मकां-मकां -मालिक **

वादों और इरादों में रखा है क्या वादे सदा झूठे वादे निभाता [...]

** अधपको फळ **

बण अध्यापक आयो जिण अधपको फळ रसाकसी पकणे री चाली पण समय सूं [...]