साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल
Posts 384
Total Views 9,760
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

गज़ल/गीतिका (25 Posts)


***** मत पूछ सवाल ऐ जमाने *****

मत पूछ सवाल ऐ जमाने क्या हमारे दिल में है वक्त आने पर बता [...]

*** रूह का साथ अगर हो ***

रूह का साथ अगर हो तो रिश्ते बोझ नहीं बनते लोग ख़ुद बनते अपने [...]

*** हम तो बहके हुए ख़्वाब हैं ***

हम तो बहके हुए रातों के ख़्वाब है क्या रखेंगे ख़्याल अपना जो आप [...]

**** अँखियों में प्यास है ****

30.6.2017 प्रातः 5.21 अँखियों में प्यास है ये दिल उदास है कहते नही [...]

** ग़ज़ल **

आँखों के आंसुओं से दामन भिगो लिये हम तो यूं कुछ दूर ही टहलने [...]

*** प्यार किया तो डरना क्या ***

20.5.17 रात्रि 12.02 प्रारम्भिक बोल ********* प्यार करना गुनाह नही [...]

*** हिज्र की रात है ***

7.5.17 *** प्रातः 9.01 हिज्र की रात है और यादें तेरी गिन-गिन तारे अब [...]

* कर-ना मुहब्बत इस जहां में *

कर-ना मुहब्बत इस जहां में कर-ना मुहब्बत इस जहां में अज़नबी [...]

*तुम उदास हो चेहरे पे फिर उजास है *

तुम उदास हो चेहरे पे फिर उजास है ग़म छुपाते हो दिल ये फिर उदास [...]

** शुकुं-ए-जिंदगी **

शुकुं-ए-जिंदगी मिले तो कैसे बो दिये है बीज जो अब ऐसे बोएं [...]

*. और क्या चाहिए *

महफूज़ दिल के सिवा और क्या चाहिए दिया दर्देदिल के सिवा और [...]

* नजरें करम हो अब हम पे कैसे *

सफ़र जिंदगी का सुहाना हो कैसे नजरें करम हो अब हम पे कैसे [...]

** कैसे भूल जाऊं **

कैसे भूल जाऊं अपने दिल की आवाज़ दिल को कैसे समझाऊं दिल की [...]

** कब तलक **

💐 ****२४.५.२०१६*****🎂 **** ***** स्वारथ के वशीभूत होकर आज [...]

** आसमां में सर अब उठा चाहिए **

जिंदगी को अब विराम चाहिए आदमी को अब आराम चाहिए कशमकश [...]

*** ख़्याल-ए-उम्र ****

अब कुछ तो रखो ख्याल-ए-उम्र शाम-ए-जिंदगी ढलती जा रही है [...]

** कौन जाने **

हुस्नवालों की चाहत क्या ,कौन जाने कब आ जाये कयामत कौन [...]

** ये दिल हुआ ना कभी अपना **

ये दिल हुआ ना कभी अपना हुआ पराया होकर भी अपना खायी ज़ालिम [...]

** ऐ हुस्नवाले **

ऐ हुस्नवाले तूं इश्क का एहतिराम कर यूं ठुकरा ना बेदर्दी [...]

** चलना थोड़ी दूर था **

चलना थोड़ी दूर था उसमे ही क़दम लड़खड़ा गये फिर क्या जिंदगीभर [...]

ग़ज़ल:-नफ़रत की आंधियां

बसर की जिस शज़र के नीचे जिन्दगी अपनी रोशनी पसर क्या आज उस शज़र [...]

**** बीमार ****

मै तेरे प्यार का बीमार हूँ ऐ जाने जिगर । तेरे प्यार की हर [...]

ग़ज़ल:- मैं बहुत साद हूं

. ** ग़ज़ल ** 5.2.17 *** 11.45 ************** मैं बहुत साद हूं तेरी बेखुदी [...]

* ग़ज़ल :- *** फ़जल ****

फ़जल उनकी क्या असर कर गयी मेरी ग़ज़ल जो ग़ज़ल बन गयी सफ़ीना [...]

तेरी आँखों के इशारे

29.12.16 ***** प्रातः 10.45 आज एक छोटा सा प्रयास ग़ज़ल ******* प्रारम्भिक [...]