साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Kaushlendra Singh Lodhi

Kaushlendra Singh Lodhi
Posts 3
Total Views 31

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

नारी (घनाक्षरी)

उसे अब न सताओ, और अब न रुलाओ, बताओ न कमजोर, अबला न कहिये।। जाग [...]

होली

होली पर्व है प्रेम का, भाई चारा धर्म। मन का कलुष मिटाइए, समझ [...]

होली (घनाक्षरी)

हरा पीला काला लाल। नीला जामुनी गुलाल।। लेके बड़े बूढ़े [...]