साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Kapil Kumar

Kapil Kumar
Posts 154
Total Views 742
From Belgium

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

चलती नही है ज्यादा देर तक भी मक्कारी

कर लो चाहे बेशक तुम कितनी भी तैयारी पड़ती हैं चालाकियां, [...]

शहर भी।तुम्हारा है संग भी तुम्हारे हैं

शहर भी तुम्हारा है ,संग भी तुम्हारे है पत्थरो पे चाहत के [...]

क्या हुआ।जो नादानी में हमसे मुँह मोड़ बैठे

बेहयाई की भी न थी ,वो हया सारी छोड़ बैठे बेफ़वाई की भी न थी,वो [...]

अजनबी हर बशर लगता है

अजनबी हर बशर लगता है ख़ाली -2 सा , घर लगता है ********************** खायें हैं [...]

शहर भी तुम्हारा संग भी तुम्हारे हैं

शहर भी तुम्हारा है ,संग भी तुम्हारे है पत्थरो पे चाहत के [...]

तो फिर वो खुदा नही होता

तो फिर वो भी खुदा नही होता........आपकी नजर इश्क़ गर सौ गुना नही [...]

कलाकार हम जो कलाकार तुम भी

गुनहगार हम जो ,शर्मशार तुम भी शर्मशार हम जो,गुनहगार तुम [...]

है सोच बुलँद अपनी

एक मेरा पुराना शेर.....................आपकी नजर है सोच बुलंद अपनी [...]

वजह

वजह कुछ और थी कुछ और ही बताते रहे अपने थे इसलिये कुछ ज्यादा ही [...]

जिंदगी रहे छोटी बेशक कोई खास न हो

जिंदगी रहे बेशक छोटी बेशक कोई खास न हो तलाश हो तो ऐसी कि जिसके [...]

तन्हा तन्हा जिंदगी गुजार दी हमने

तन्हा तन्हा जिंदगी गुजार दी हमने दुआयें भी उनको बेशुमार दी [...]

तन्हा तन्हा जिंदगी गुजार दी हमने

तन्हा तन्हा जिंदगी गुजार दी हमने दुआयें भी उनको बेशुमार दी [...]

जिंदगी रहे छोटी बेशक कोई खास न हो

जिंदगी रहे बेशक छोटी बेशक कोई खास न हो तलाश हो तो ऐसी कि जिसके [...]

कैसे हैं दिन कैसी अजीब राते हैं

कैसे हैं दिन , कैसी अजीब रातें हैं चाँद तारे भी गुमशुम करते [...]

मै हूँ न वजूद अपना मिटाने के लिये

मै हूँ न वजूद अपना मिटाने के लिये आपको नजरे बद से बचाने के [...]

दिल अपना भी

रुबारु जब भी आइना होगा सच का ही तो सामना होगा ********************* तोड़ोगे [...]

आग गर आग है पानी फिर पानी है

आग गर आग है पानी फिर पानी है तोड़ दे सारी हदें इसमें वो रवानी [...]

गऱ वो कुछ पल रुके होते

गऱ वो कुछ पल रुके होते दर्मिया यूं न फ़ासले होते ******************** करता [...]

फिर न रहेगा , गुरुर कोई तेरा बाकी

फिर न रहेगा , गुरुर कोई तेरा बाकी आइना बस इक सुबह देखना [...]

बात मेरी भी आजमा कर् देखिये

बात मेरी भी आजमा कर देखिये आँख से भी पर्दा हटा कर [...]

नोट बंदी आर्थिक डकैती है

नोट बंदी आर्थिक डकैती है वोट मंडी तो हमारी खेती [...]

रखते हैं हम असर कोई बेअसर नही

रखते हैं हम असर कोई बेअसर नही रखते हैं हम ख़बर कोई बेखबर [...]

तेरा मेरा नजरिया न मिले

तेरा मेरा नजरिया न मिले जरूरत तो मिलती है ऐसे ही तो जानेमन [...]

बेवजह ही मै सबसे रूठता रहा

बेवजह ही मै सबसे रूठता रहा खुद से खुद का पता पूछता [...]

पुरनूर चेहरा

पुरनूर चेहरा मुस्कराहट ये, गवाही देती है दिल के करीब उसकी [...]

जब ख़ुशी के पल हैं बहुत ही कम

जब ख़ुशी के पल, हैं बहुत ही कम पालता है दिल कियूं बेवजह के [...]

हाथ संसद न चलने देने का कुछ तो इनाम आ गया

इतने दिनों का रोना पीटना कुछ तो काम आ गया हाथ संसद न चलने [...]

भारत इक सियासती मंच है बाबू

भारत इक सियासती मंच है बाबू यहां हर कोई अपने ही लिये जीता [...]

टुकड़े तेरे आइने के

टुकड़े तेरे आइने के भी रखे हैं संभाल कर नजर आये तेरी सूरत शायद [...]

इंसा तो इंसा है ख़ुदा कब है

Congratulations इंसा तो इंसा है खुदा कब है मौत से खुद की बचा कब [...]