साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: जगदीश लववंशी "जेपीएल"

जगदीश लववंशी
Posts 94
Total Views 1,194
J P LOVEWANSHI, MA(HISTORY) ,MA (HINDI) & MSC (MATHS) "कविता लिखना और लिखते लिखते उसी में खो जाना , शाम ,सुबह और निशा , चाँद , सूरज और तारे सभी को कविता में ही खोजना तब मन में असीम शांति का अनुभव होता हैं"

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

जीवन हैं एक राह

जीवन है एक राह , बस इतनी सी चाह, मिल जाये हमराह, जाे ले मन की [...]

परछाईं

शाम काे है जाना, सुबह काे फिर है आना, सुख दुःख मे रहूं तेरे [...]

आज रविवार हैं

आज रविवार है, मिला पुराना यार है, फिर जागा वाे प्यार है, उसकी [...]

नर्मदा का नाभि स्थल

यह हैं नर्मदा का नाभि स्थल, यहाँ करता बहता जल कल कल, कहलाता है [...]

दो जून की रोटी

वाे राेती, ये राेटी, सुलगती राेटी, बेबसी की राेटी, लाचारी की [...]

बिटिया रानी बड़ी सयानी

बिटिया रानी बड़ी सयानी, थोड़ी सी नटखट करती शैतानी, जब जब देखूँ [...]

जन मन

गाते गाते जन गण मन, बालक मन बन गया जन, आज हो गए हम जनक, लगे [...]

स्वतंत्रता की अलख

लहराये तिरंगा भवन भवन, भारत माता को नमन नमन, गीतों से गूंज [...]

रक्षा बंधन

*रक्षाबंधन* मास हैं सावन, त्यौहार हैं पावन, सजी हर कलाई, मिल [...]

मेरी निगाहे

देख रही मेरी निगाहे, सूनी पड़ी कब से राहे, बीत गए कितने [...]

मेरी नन्ही परी

नन्ही सी प्यारी सी हमारी परी, हम सब की है वाे राज दुलारी, जब [...]

पथिक चलते रहो

पथिक चलते रहाे,पथिक चलते रहाे । पीछे मुड़कर न देखाे,दुख ही [...]

मन निर्मल

मन निर्मल, तुम चंचल, हाे सरल, दर्शन विरल, काया कंचन, तुम्हे [...]

जन्मभूमि

हमारे पूर्वजाे की यह कर्मभूमि, उमरेड़ हैं हमारी [...]

माँ बहुत याद आती

हर पल हाेता है अहसास, रहती हाे सदा मेरे पास, याद तुम्हारी [...]

जिंदगी हैं एक सवाल

जिंदगी है एक सवाल, नही पता इसका हल, दूर से लगता कितने है [...]

जीवन हैं एक मेला

जीवन है एक मेला, उलझनाे का है झमेला, लगे है खुशियों के [...]

बचपन कितना सुंदर था

बचपन कितना सुंदर था, खुशियों का समन्दर था, जाे भी था पर अपना [...]

कविता हैं मन का भाव

कविता है मन का भाव, भरती है जीवन के घाव, जब हाेने लगती कांव [...]

हम साथ चले

दाे कदम तुम चलाे, दाे कदम हम चले, कट जायेंगे ये रास्ते, मिट [...]

भीष्म

वह वीर काैरव, चंद्रवंश का गाैरव, गंगा का दुलारा, परशुराम का [...]

सावन है शिव का मास

सावन है शिव का मास, दुःखाे का करते ह्रास, शिव है कल्याण का [...]

बचपन के दिन

बहुत याद आते बचपन के साथी, देखा करते थे सब मिलकर हाथी, उछल कूद [...]

तेरे अधर

तेरे अधर, है किधर, देखू उधर, है जिधर, सांसे है फूली, सुधबुध तू [...]

मेरी प्रीत

कैसी बनी यह रीत, कैसे जिये बिना प्रीत, गुनगुनाते तेरे ही [...]

बारिस

क्याे इस बरस, रही हाे इतनी बरस, बहुत हुआ,बरसकर अब मत बरस, नही [...]

आज है हरियाली अमावस्या

आज है हरियाली अमावस्या, देखाे धरती की बदली है काया, प्रकृति [...]

छाेटा सा हूँ बच्चा

छाेटा सा हूँ बच्चा, अक्ल का हूँ कच्चा, दिल का हूँ सच्चा, मेरा [...]

यह है नरसिंहगढ़ हमारा

कहलाता मालवा का कश्मीर, पर्वताे पहाड़ाे के बीच बसा शहर, यह है [...]

विचारो की तरंग

मन में उठती विचाराे की तरंग, वाे भरते जीवन पथ में नया रंग, हर [...]