साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: guru saxena

guru saxena
Posts 18
Total Views 159

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

वन्दे मातरम्

वन्दे मातरम् यह दिन शहीदों के बलिदान का यह दिन भारत के [...]

तिरंगा

तिरंगा, सवैया छंद दे रहे लोग सलामी तुझे यह पाकर पर्व महान [...]

तिरंगा

तिरंगा आपस में मतभेद विचारों का देते [...]

सिचवेशन कविता

वर्षा की फुहार :-सिचुवेशन-: एक नायिका बारिश में भीग रही है उसे [...]

सिचवेशन कविता

वर्षा की फुहार :-सिचुवेशन-: एक नायिका बारिश में भीग रही है उसे [...]

कलाम साहब को समर्पित

सादगी सहजता सरलता से भरे हुए मानवतावादी गुण धर्म धारे धाम [...]

कृपान घनाक्षरी

कृपान घनाक्षरी बैरी आज सीना तान करे जंग का ऐलान, ओ सपूतो [...]

कारगिल विजय दिवस पर

पाकियों को पकड़ पकड़ पीस डाला ऐसे जैसे कोई चटनी सी पीस डालें [...]

जरा बतिया ले

सवैया छंद आदमी कि नहिं गैस मिटे चहे बीस प्रकार की औषधि खा ले [...]

हिमालय

कुंदलता सवैया ( 8 सगण 2 लघु) चलते नित हैं सत् के पथ में, फिर हो [...]

घूमें कभी मन में घने

घूमें कभी मन में घने क्षण क्षण यही विचार किस किस पर कविता [...]

नेता जी और यमराज

एक नेता जाके यमराज की अदालत में, अड़ गया बोला मुझे स्वर्ग [...]

कुन्डलिया

सब प्रकार से सफल है, मोदी जी का राज अन्न सड़ा गोदाम में, फिकी [...]

कवी मंच वालो

व्यंग्य विनोद कवी मंच वालो कवी मंच वालो यहां मैं जमाऊं वहां [...]

मनहरण दंडक छंद (सैनिकों से निवेदन)

पाक की मिटाने धाक,आगे बढ़ो काटो नाक, मारो शाक पर शाक नहीं [...]

भाषा समक अलंकार

राम के अनेक नाम, राम के अनेक धाम, राम के अनेक काम, सेंट परसेंट [...]

वीर रस की हास्य कविता

मन करता है गीत सुनाऊं वीरों की परिपाटी के मन करता है गीत [...]

नया कवि

जवानी के जोश में जवान कहां जाके फंसा जोश क्या करा दे कोई होश [...]