साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: gopal pathak

gopal pathak
Posts 5
Total Views 99
मै साहित्य का अदना सा कलमकार हूँ माँ शारदे की कृपा से थोडा बहुत लिख लेता हूँ /मै ज्यादातर श्रंगार पर लिखता हूँ/और वीर लिखता हूँ/

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कुछ मुक्तक

तेरे इस अहसास को अहसान बना लू तुझको जिन्दगी का महमान बना लू [...]

बाहर क्यू न आते हो

मै बिखरा हूँ याद में तेरी क्यू इतना तड़पाते हो एकबार मुझे [...]

प्यार की कहानी

खुला छोड़ा है जिनको दरवाजा अन्दर वो अभी तक आये नहीं हैं हमने [...]

हम जैसे शायद दिवाने नहीं है

खुला छोड़ा था जिनको दरवाजा अन्दर वो अभी तक आये नहीं है हमने तो [...]

लिखते रहते है

गुल तो गुलशन में रोज खिलते रहेते है कभी नए तो कभी पुराने [...]