साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Mahender Singh

Mahender Singh
Posts 75
Total Views 1,610
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

सोच सम्मोहन और हकीकत

जिनकी सोच प्राकृतिक नहीं होती है, वे सदा से यही सोचते आएं [...]

साध और संगत…..खुद की भली,

परिणाम चाहिए, सम्मोहन से बचे, स्वावलंबी बने, स्वतंत्रता की [...]

सीसे के हैं घर/दामन पर,फिर भी दाग

पहरे भी, गहरे भी, नभ के नीचे, धरातल पर, हर जीवंत की नज़र [...]

ज्ञान पर है ..प्रबल जाति

कोई कह ना दे कुछ यूँ ही आदतें देखकर कुछ करने का जिम्मा उठा [...]

*गृहस्थ और साधुवाद*

शांति की चाह में पहुँच गया जंगल में, मंगल की आश में गए पहुँच [...]

मनोबल बढ़ाया-सफलता मिली,

चलकर देखा है, मैने अपनी चाल से भी तेज.....! फिर भी वक़्त और तकदीर [...]

आकलन बुलंद आगाज

लगते तो है सब लोग, समझदार वा सुलझे हुए, गर मिल पूछो उनसे, है हर [...]

रफ्तार और इंसानियत

रफ्तार भरा जमाना है, पर महसूस नहीं, अनुभव में तो आया ही नहीं [...]

लकीर के फकीर

😢लकीर के फकीर कहाँ अपनी तस्वीर बना पाते है ? 😢जो बैठे है [...]

हास्य-दस्त और डॉक्टर

😊हर कोई परेशान है, कोई कब्ज से तो 😢कोई लफ़्ज से परेशान [...]

*आस्तिकता के मानक*

*आस्तिक वह नहीं जो कि किसी तथाकथित भगवान या धर्म में विश्वास [...]

होड और नेक कमाई

हो भले मुसाफिर जिंदगी के सफर में जीवन के पथ पर लगी है [...]

स्वतंत्रता की अमर-गाथा

स्वतंत्रता-दिवस 15अगस्त, विश्व में नक्शे पर रंगोली खिलने की [...]

तकलीफ किसे?बस शिकायतें है,

तकलीफ किसे ? बस शिकायतें है, जमाना गुज़र गया तारीफ़ सुने हुए, [...]

मजदूर की व्यथा (पीड़ा)

"मजदूर की व्यथा" दो वक्त की रोटी को, जिंदगी छोटी पड़ जाती [...]