साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया
Posts 146
Total Views 8,751
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का ह्रदय से आभारी तथा प्रतिक्रियाओ का आकांक्षी । आप मुझ से जुड़ने एवं मेरे विचारो के लिए ट्वीटर हैंडल @nivatiya_dk पर फॉलो कर सकते है. मेल आई डी. dknivatiya@gmail.com

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

सुसंगति – दोहे

दोहे मोल तोलकर बोलिये, वचन के न हो पाँव ! कोइ कथन बने औषधि, कोइ [...]

मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई

ना पूछो यारो मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई फ़ज़ीहत इसकी आजकल [...]

जगाने आया हूँ

न कोई हंगामा न कोई बवाल करने आया हूँ बिगड़े हुए हालातो से आगाह [...]

सेहरा — शेरो शायरी

लो सज गए वो फिर से पहनकर सेहरा भी, अरे कोई तो जाकर उन्हें [...]

रावण बदल के राम हो जायेंगे

खुली अगर जुबान तो किस्से आम हो जायेंगे। इस शहरे-ऐ-अमन में, [...]

मोहे प्रीत के रंग रंगना

रंग से नही रंगना, सजन मोहे अपने रंग में रंगना ! कच्चे रंग [...]

मैं नारी हूँ

मैं नारी हूँ जग जननी हूँ, जग पालक हूँ मैं नारी हूँ, न किसी से [...]

हम बच्चे मस्त कलंदर

हम बच्चे मस्त कलंदर एक मुट्ठी में सूरज का गोला एक में लेकर [...]

मन की बाते

आवश्यक सूचना (यह राजनितिक हालातो के परिपेक्ष्य पर लिखी गयी [...]

मधुमास में

इस बार मधुमास में फिर खेलेंगे होली हम तेरी यादो संग [...]

महादेव

पाप पुण्य के युद्ध में जो खुद को मिटाता है। त्याग कर अमृत [...]

एहसास-ऐ-गैर

मुहब्बत के नाम का पाठ वो दिन रात रटता है। जरा सा छेड़ दो तो [...]

हमारे नेता—डी के निवातिया

विकास की डोर थाम ली है हमारे नेताओ ने । अब नये शमशान और [...]

मांझी

लड़ाई गर मुद्दे पर हो तो लड़ने में मजा आता है उलझकर उलझनों में [...]

मेरा चमन……

जालिम बहुत है वो हर घर, गली , मुहल्ले में छुपे बैठे है उनसे [...]

कलयुगी भक्ति में शक्ति

कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान [...]

बसंत बहार — डी. के. निवातिया

बसंत बहार बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों [...]

बेटियाँ — निवातिया डी. के.

बेटियाँ घर आँगन की पहचान होती है बेटियाँ हर चेहरे की [...]

दिल कि खोली

खाली है दिल कि खोली इसको भर दो कुछ दौलत अपनी हमे ईनाम कर [...]

मुझको मेरा हक दो

--::---मुझको मेरा हक दो--::--- मुझको मेरा हक दो पापा बहुत कुछ कर [...]

आज का नवयुवक

आज का नवयुवक अजीब हाल में दिखता है आज का नवयुवक जागा है मगर [...]

सुनो

सुनो, कुछ नही है तो यादो में आते क्यों हो पल - पल ख्यालो में [...]

तैयार हो जाओ ….

तैयार हो जाओ .... आया है मौसम चुनावी बरसात का, बरसाती मेंढक अब [...]

अमीरी-गरीबी

अमीरी-गरीबी बहस छिड़ गयी एक दिन अमीरी और गरीबी में !! नाक उठा [...]

नया साल

खड़ा हूँ दहलीज़ पर फिर एक नये साल की पोटली थामे, जिंदगी में हुए [...]

कुछ पल मुस्कुराये होते

तुम अगर मेरी जिंदगी में आये होते तो हम भी कुछ पल मुस्कुराये [...]

मुस्कान

मुस्कान, मात्र एक नाम या शब्द नही ये पहचान है……………. !! किसी से [...]

धीरे धीरे

भोर की चादर से निकलकर शाम की और बढ़ रही है जिंदगी धीरे धीरे [...]

एक पथ और

आओ चले एक पथ और छोड़ पदचिन्ह एक छोर ! नई उमंग ह्रदय धरे [...]

जी लो हर लम्हे को

न रोको जाते हुए लम्हो को न टोको आते हुए लम्हो को हार सुख दुःख [...]