साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Vikas Sharma Daksh

Vikas Sharma Daksh
Posts 10
Total Views 108
हिमाचल प्रदेश में जन्म हुआ और पढ़ाई भी। स्नातक होने के उपरान्त निजी क्षेत्र की कंपनियों में विक्रय और विपणन विभाग में काम किया। कंपनी टूर से देश भर में भ्रमण हुआ। अपने अनुभवों को व्यक्त करने के लिए कलम थाम ली। उर्दू के इलावा हिंदी और अंग्रेजी भाषा में भी लिखता हूँ।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मय-ए-मुहब्बत

भूली जाती नहीं मुहब्बत इस ज़माने में, कोशिश तो बहुत की हमने भी [...]

घर आ गया

मैं यूँ खुद के बिखरे पुर्ज़े सिमटाता, घर आ गया, ज्यों चरवाहा [...]

किताब

जाने पढ़कर आयें हैं आज वो कौन किताब, उनके हर जवाब पर हो रहे हैं [...]

यादों को तुम्हारी…….

यादों को तुम्हारी बड़े करीने से संजो लेता हूँ मैं, आँखों को [...]

लिपट जाएं !

आएं आगोश में और बाहों में सिमट जाएं, सुबह की रौशनी जैसे [...]

चाँद बनके जो उतरे हो ज़मीं पर,

चाँद बनके जो उतरे हो ज़मीं पर, किसी कि नज़र ना लगे, चुपके से आ जाओ [...]

आइना

आइना भी अब मुझसे पहचान मांगता है, चेहरे पर पहले सा ईमान [...]

इक गुलाब दे जाओ,

खार बहुत हुए अब इक गुलाब दे जाओ, ताउम्र की वफाओं का हिसाब दे [...]

बर्बादियों को जा गले मिले !

जो फेर लेते हो चेहरा ज्यों ही नज़र मिले, लगता है कि हम हैं कहीं [...]

मुहब्बत, इक एहसास

मुहब्बत इक एहसास, के इलावा क्या है, समझो तो सब कुछ, वर्ना क्या [...]