साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Brijpal Singh

Brijpal Singh
Posts 50
Total Views 2,288
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

लेख

बड़ी बिडंमना है साहब ... सच से क्यों मुँह मोड़ते हैं लोग यहाँ ? [...]

जाता नहीं ( शीर्षक )

कभी-कभी सोचता हूँ चुप ही रहूँ मगर चुप मुझसे रहा जाता नहीं... हो [...]

ए- ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ

ए ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ तूने जो सुख् और दुःख दिए हैं [...]

ये सच है

कई सरकारें आई और चली भी गई हुआ क्या कुछ भी नहीं ... दाम वहाँ भी [...]

चंद शेर

बड़ा अज़ीब मिज़ाज़ है इन शहरों का हवा आती नहीं, साँस ले नहीं [...]

मुक्तक

आगे बढ़ रहे सभी, वक्त छूटता जा रहा है इंसान ही इंसान को आज [...]

शेर

कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर से पूछोगे तो [...]

मुक्तक

प्यार के देखो यहाँ दीवाने बहुत हैं सच है जताने के अफसाने [...]

एक खत डैड के नाम

डैड... मैं अक्सर सोचता हूं कि आप मुझे छोड़कर क्यों चले गए! आप [...]

मुक्तक

मंत्री साहब आश्वासन दिए जा रहे हैं.. किसान दिनोदिन फाँसी [...]

बचपन

यादों के साये पसेरे चलना माँ के पल्लू पकड़े कभी [...]

बसंत

लो फ़िर बसंत आया है छंट गए बादल घनें और यही गज़ब की साया है [...]

मातृभूमि

मातृभूमि में जियूँगा मातृभूमि में मरूंगा मैं कर जाऊँगा [...]

मैं तो कहता हूँ

मैं तो कहता हूँ...... मैं तो कहता हूँ हर युवा को अब जाग जाना [...]

मुक्तक

हकीकत जानकार भी क्यों अंजान हैं सब, जीत गए हैं बाज़ी फ़िर [...]

सुनहरे पल

वो हर लम्हा सुनहरा होता है जो अनुरूप हमारे साथ खड़ा होता [...]

गज़ल

------------------- ठहरे जीवन को मेरे रवानी मिली गहरे पानी में अब निशानी [...]

ग़ज़ल

_________________ मेरा दिल मेरा आईना तो दिखा दे घने सन्नाटे में आवाज़ [...]

धुंध ही दिखता है

हर जगह मुझे अब धुंध ही दिखता है इंसान को ही देखो दर-दर बिकता [...]

अकेलापन

उम्र का ये पड़ाव कैसा है , जहाँ सब कुछ तो है फिर भी अकेलेपन का [...]

मज़दूर हूँ ……

मज़दूर हूँ ....... और मज़बूर भी वो दिहाडी और वो कमाई ....... मेरे [...]

वो रात

---------- ज़िंदगी का ज़िंदगानी का भरी भागदौड, आबादी का वो रात ,वो [...]

मान जाओ

----------- दिल सच्चा है तो सच्चे दिखोगे यूँ ही हरदम....... बच्चों [...]

ज़ंग

आशा और निराशा के बीच झूलते-डूबते - उतराते घोर निराशा के क्षण [...]

एक शख्स यह भी ( कहानी )

एक शख्स यह भी" __________ रोज़ाना की तरह मैं उस दिन भी सुबह की सैर [...]

आज़ादी और देश प्रेम विशेषांक

_________________________ आज़ादी कहीं खोई नहीं थी जो मिल गई, आज़ादी दिलवाई [...]

नहीं पता

मुझे मंज़िल का नहीं पता मुझे रस्ते का नहीं पता चला जा रहा [...]

है कोई …………

है कोई ............ भूखे को भोजन प्यासे को पानी पिला दे बीमार को दवा [...]

हे ! मेरे फेसबुक …………

फेसबुक ने मुझे नई ज़िंदगी दी जीने की एक वजह दी, प्यार भी हुआ [...]

यादें

सोचता हूँ अब याद न करूँ.. उस बुरे वक्त को उस कठिन राह को उस [...]