साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: विनोद सिन्हा "सुदामा"

विनोद सिन्हा
Posts 23
Total Views 341
मैं गया (बिहार) का निवासी हूँ । रसायन शास्त्र से मैने स्नातक किया है.। बहुरंगी जिन्दगी के कुछ रंगों को समेटकर टूटे-फूटे शब्दों में सहेजता हूँ वही लिखता हूँ। मै कविता/ग़ज़ल/शेर/आदि विधाओं में लिखता हूँ ।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

जरा याद करो कुर्बानी

शहीद दिवस 💐💐💐जरा याद करो कुर्बानी💐💐💐 चले गए जो हँसते [...]

मै पानी हूँ…

मै पानी हूँ.। मै पानी हूँ..। मै स्रोत भी हूँ, मै सार भी हूँ, सच [...]

मुझको वर दे….

🕉 या देवी सर्वभूतेषु, विद्या रूपेण संस्थिता।🕉 🕉 नमस्तस्यै [...]

वीवी और हादसा…।

व्यंग्य...।। वीवी और हादसा...।। क्या जिक्र करुं घटती है घटना [...]

खिड़कियाँ..।।।।

खिड़कियाँ.. जाने कितने एहसासों के रंग मे, हर क्षण रंगती [...]

**** रोशनी हो गई ****

**** रोशनी हो गई **** **** चैन दिल को मेरे मिल......गया.। [...]

नजर..।।

👁👁..नजर..👁👁 नजर ने नजर को जब नजर से बुलाया.। नजर ने नजर [...]

“बेटी बोझ नही…”

मेरी यह कविता उन माता - पिता के लिये एक संदेश जो बेटीयों को बोझ [...]

अब ना हार मान तू ….।

अब ना हार मान तू ....। उठ अब ना हार मान तू , जीत जिंदगी को जीत का [...]

नव वर्ष कि पहली किरण…

नव वर्ष की पहली किरण.....। बीत गया पुराना साल देखो.। लिऐ [...]

आदमी सा लगा….।

आदमी सा लगा.......।। बड़ा अजीब मंजर था जानाजे का उसके.। वहां [...]

कभी कभी मेरे दिल मे…।

कभी कभी...। कभी कभी मेरे दिल मे खयाल आता है..।। कि जिंदगी इतनी [...]

तो तुम चले जाना…

एक फरियाद ऐसी भी...! ***।..तुम चले जाना..।*** दिल की बात करने [...]

आदमी…।

आदमी....।। तील तील कर तो यूँ ही मर रहा था "आदमी"..। जो थोड़ी [...]

“निर्भया” – तुम हमे माफ़ कर देना

निर्भया" - तुम हमे माफ़ कर देना..!! "निर्भया" तुम हमे माफ़ कर [...]

याद…..

याद.... आज फिर उनकी याद मे रो कर रात गुजारा हमने..! बिना निंद के [...]

शायरी

"शायरी" *************************** कतारे़ तो सिर्फ़ मेरे दुश्मनों की थी [...]

प्यार…….

"प्यार" आज आँखों मे बसा उनका ही इंतजार है..! आने बाला आज मेरा [...]

बात और होती है…….

बात और होती है.....!! किसी के पलकों से निंदे चुराना तो और बात है [...]

तृप्ति….

तृप्ति.... "तू" मुझमें है "मै" तुझमे हूं. फिर कैसा "मै" और कैसी [...]

थप्पड़….

एक छोटी सी कोशिश..।।।। थप्पड़.....।।। व्हील चेयर पर बैठी [...]

“बेटी और कोख”

बलात्कार की बढती घटना से त्रस्त एक मां की अपनी कोख मे पल रही [...]

फासला…

फासला... वो मेरा हमसफर भी था वो मेरा राहगुजर भी था...!! पर [...]