साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: bharat gehlot

bharat gehlot
Posts 23
Total Views 810

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कातिल तेरी मुस्‍कान यह अजब खेल कर गई , हर लिया हमारा दिल क्‍या गजब खेल वह कर गर्इ,

कातिल तेरी मुस्‍कान यह अजब खेल कर गई , हर लिया हमारा दिल क्‍या [...]

अाॅखाे ही ऑखो में कुछ बात हो गयी , दिल से दिल की मुलाकात हो गयी ,

अॉखो ही आॅखो में कुछ बात हो गयी , दिल से दिल की मुलाकात हो गयी [...]

वो जो मेरे ख्‍वाबो ख्‍यालों में रहने वाली वो जो मुझे अपना जताने वाली

वो जो मेरे ख्‍वाबो ख्‍यालों मे रहने वाली, वो जो मुझे अपना [...]

किसी की याद में तडपु किसी की याद में जागु,

किसी की याद में तडपु किसी की याद में जागु, किसी के वादे है [...]

नमन है भारत के वीरों को शेरो की सन्‍तानो को

नमन है भारत के वीरों काे शेरो की सन्‍तानों को , जिन वीरो के [...]

तुझको पाना तुझको खोना चलता रहता है

तुझको पाना तुझको खोना चलता रहता है, जीवन है एक जंग यहा पर [...]

तुझसे कैसी प्रीत लगी रे ओ मेरे िदलदार

तुझसे कैसी प्रीत लगी रे ओ मेरे िदलदार , हुआ हमारा खाना-पीना [...]

कायदे से वो मुझे मना कर देती

कायदे से वो मुझे मना कर देती , मुझसे और मेरे िदल से हुई खता कह [...]

तुझे पाने की उम्‍मीद में मेरी जान इस कदर खो गये

तुझे पाने की उम्‍मीद में मेरी जान इस कदर खो गये, कितनी राते [...]

तेरी अंखियन ने मुझको मारा मेरी साॅसाे का है सहारा

तेरी अंखियन ने मुझके को मारा मेरी सॉसाे का है सहारा , तुझे [...]

जुल्‍म वाे ढहाती रही जुल्‍फ वो सुलझाती रही

जुल्‍म वो ढहाती रही जुल्‍फ वो सुलझाती रही , करके अ‍‍क्षि तीर [...]

अपने आप को जानो खुद को खुद से पहचानो

अपने आप को जानो खुद को खुद से पहचानो, क्‍या थे क्‍या हो गये उस [...]

पहले प्‍यार की खातिर

पहले प्‍यार की खातिर हॅसी उल्‍लास की खातिर , में तुझको देखता [...]

श्‍ोर ए दर्द

जीवन के एक मोड में कुछ अग्‍यार मिल जाते है जो अपने बन जाते है , [...]

जिंदगी

हँसने - हँसाने का नाम है जिंदगी , गमो में भी मुस्काने का नाम [...]

एक मुक्‍तक माॅ शारदे केे चरणो में

नमन है बारम्‍बार माता शारदे , अन्‍धकार मिटा जगती का , [...]

वीर शहीदो को नमन

नमन है ऐसे वीरो को जिन्‍होने दुश्‍मन को ललकारा था , कर [...]

शेर ओ शायरी

बढने लगा है आज कल बाजार में सरमायादारियाॅ , बढने लगी है [...]

मॉ

मॉ ममता की खाॅन है, मॉ गीता और कुरान है, मॉ धरती पर परमपिता की [...]

शेर

वो जो मेरे दर्द ए दि‍ल का पारखी है , जि‍से यह जहाॅ माॅ कहता [...]

ईश्‍वर कहा बसता है ?

न वो मन्‍दिर में बसता है न मस्‍जिद न गुरुद्रारे में , [...]

कलम

कलम ही मेरी जान हैं, कलम ही मेरा जहाॅ है, कलम ही मेरी पुजा [...]

सरस्‍वती वन्‍दना

हे मॉं शारदे कष्‍ट तु नि‍वार दे, शब्‍दों का ज्ञान दे मॉं, तम [...]