साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: अनिल अयान श्रीवास्तव

अनिल अयान श्रीवास्तव
Posts 5
Total Views 9
कथाकार। कवि। संपादक - शब्द शिल्पी पत्रिका और प्रकाशन। सतना मध्य प्रदेश

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मां गंगा का नीर है

मां गंगा का नीर है मां गंगा का नीर है व मां बरगद की [...]

गीत

अर्थ के अब अनर्थ हो गये शब्द है मृत्यु के पाश मे।। व्याकरण [...]

गीत

मै अपने दिल की रामकहानी लिखता हूं। अपनी पलकों से बहता पानी [...]

गीत

धरती जल रही है औ सूर्य हंस रहा है। वातावरण को देखो ये कैसे डस [...]

ग़ज़ल।

कोशिश बहुत की बदलाव के लिए। राहत नहीं है दिल के घाव के लिए। [...]