साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Awneesh kumar

Awneesh kumar
Posts 20
Total Views 92
नमस्कार अवनीश कुमार www.awneeshkumar.ga www.facebook.com/awneesh kumar

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

पत्थरो से कैसे सिकवा

पत्थरो से कैसे सिकवा , चोट तो आनी ही थी उसने नहीं कहा दिल [...]

आज किसी की जुल्फे छु के गुजरा हु,…..

आज किसी की जुल्फे छु के गुजरा हु, जैसे सावन की हवा ले के गुजरा [...]

तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक …..

तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक मुझे हमारी इन्सानियत [...]

हवाओ में तो बस तेरी खुशबू है…

हवाओ में बस तेरी खुशबू है चमक तो जैसे तेरी जुगनू है पाना [...]

आज भी जुबाँ से उसका नाम आता है ….

आज भी जुबा से उसका नाम आता है उसे अहसास नहीं सुबह से शाम आता [...]

इश्क़ के हँसते-रोते फ़साने बहुत देखे ….

इश्क के हँसते-रोते फ़साने बहुत देखे इश्क में खुशी-गम के [...]

मोहब्बत पे इतनी निगरानी ठीक नहीं …..

मोहब्बत पे इतनी निगरानी ठीक नहीं ये तुम्हारी इतनी मेहरबानी [...]

गलती पे गलती किये जा रहे है……

गलती पे गलती किये जा रहे है जज्बातो के उड़ान में उड़े जा रहे [...]

बस एक दो मुलाकात हुई थी …..

बस एक दो मुलाकात हुई थी उसमे भी कुछ खास बात नहीं हुई थी कह गए [...]

तेरी चुप्पियां अब ,काटो की तरह चुभने लगी है ….

तेरी चुप्पिया अब, काटो की तरह चुभने लगी है। कुछ दिन से तो [...]

बात कहा पहुची, बताओ तो जरा…..

बात कहा पहुची, बताओ तो ज़रा। कुछ अपनी सखी से कही, पुछो तो [...]

जब दिल लगाना ही नहीं था तुमको बाते ही ना करते

जब दिल लगाना ही नहीं था तुमको, बाते ही ना करते। बातो से [...]

कल जो बीती रात एक नया ख्वाब पल गया ….

कल जो बीती रात एक नया ख्वाब पल गया, मन का एक हिस्सा किसी के नाम [...]

हम सभी के लिए नहीं, सपने सजाते है ….

हम सभी के लिए नहीं , सपने सजाते है । हम सभी को नहीं , दिल में [...]

नया नया है साथ हमारा , नयी नयी ये होली है…..

नया नया है साथ हमारा , नयी नयी ये होली है। कितना प्यारा [...]

परेशान तन है ……..

परेशान तन है बेचैन मन है उलझन में जान है बहुत परेशान [...]

हालात से समझवता कर बैठा हूँ …….

हालात से समझवता भी करना पड़ता है जज्बात से किनारा भी करना [...]

बहका बहका समां है…….

बहका बहका ये समां है बहकी बहकी बात तेरी न लो अपने आगोश में तुम [...]

सफर से अब मैं ऊब गया हूं…..

सफर से अब मैं ऊब गया हूं तेरे घर के रस्ते से मैं ख़ूब गया हूं [...]

सब का अपना ताना बाना है

सब का अपना ताना बाना है, सब का अपना ठउर ठिकाना है, सब के अपने [...]