साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: अरविन्द राजपूत "कल्प"

अरविन्द राजपूत
Posts 8
Total Views 2,120
अध्यापक B.Sc.,M.A. (English), B.Ed.

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

धरती अम्बर एक हुए

नैन मिले जब नैनों से, चार नयन जब एक हुए। मिली नज़र जब नज़रों से, [...]

अब तो निंदिया टूट गई

जय जयकारा करते करते साल अनेकों बीत गई । राजनीति के गंदे [...]

अनमोल कथन

"समस्या और उसका समाधान हम स्वम् हैं, अपेक्षा निरर्थक है।" [...]

भारत भाषा हिंदी

दुनिया में लाखों भाषाएँ, मेरी भाषा हिंदी। अलंकारों से सजी [...]

शैर

👍 काश हमारे गीतों को, गर शब्द आपके मिल जाएं । महक उठेगा जीवन [...]

शिक्षा देना ध्येय हमारा

नहीं मान-सम्मान चाहता, शिक्षित हो हर वर्ग हमारा। अभावों के [...]

मॉ की कोख मैं मुझे न मारो

पापा मेरे प्यारे पापा, मुझे अपना लो पापा जी । मां की कोख में [...]

मॉ की कोख में मुझे न मारो

*मॉ की कोख में मुझे न मारो* ✍🏻अरविंद राजपूत पापा मेरे [...]