साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Anuj Tiwari "इन्दवार"

Anuj Tiwari
Posts 107
Total Views 14,461
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी मोबाइल नम्बर --9158688418 anujtiwari.jbp@gmail.com

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

गज़ल :– नासूर यूँ चुभते रहे ॥

गज़ल :-- नासूर यूँ चुभते रहे ॥ नासूर यूँ चुभते रहे । क्यों [...]

गज़ल :– मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥

गज़ल :--मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥ प्यार वो हम से जताने आ गए । आज [...]

गज़ल :– जिसको खुशी हो यार की ऊँची उड़ान से ।।

ग़ज़ल :-- जिसको खुशी हो यार की ऊँची उड़ान से !! वज्न [...]

दुर्मिल सवैया :– प्रथम खण्ड ॥॥

*दुर्मिल सवैया छंद* :-- प्रथम-खण्ड *चित चोर बड़ा बृजभान सखी* ॥ 8 [...]

मुक्तक :– बेवफ़ाई का निशां मिल ही गया ।।

मुक्तक :-- बेवफ़ाई का निशां मिल ही गया ।। हुस्न वाले ! बेवफ़ाई का [...]

गज़ल :– अब हमारे दरमियां भी फासला कुछ भी नहीँ ।।

तरही गज़ल :-- 2122--2122--2122--212 आसरा कुछ भी नहीँ है वासता कुछ भी नहीँ [...]

मुक्तक :– चूड़ियां ।।

मुक्तक :-- चूड़ियां ॥ हरी या लाल पहनों तुम हमें हर रंग प्यारा [...]

गज़ल :– बेवजह लोग गंगा नहाते रहे ।।

तरही गज़ल :-- बेवजह लोग गंगा नहाते रहे । बहर :-- 212--212--212--212 मीठे सपने [...]

दुर्मिल सवैया :– भाग -12

डुर्मिल सवैया :-- भाग 07 रविलोचन , योगि , सुदर्शन की । जय आदि [...]

गज़ल :– ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।

गज़ल :-- ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।। बहर :- 2122--2122-2122 ख्वाब बन [...]

क्षणिका :– दिल में तू…….।।

क्षणिका :-- दिल में तू बसी है , होठों पर हँसी है क्या तू [...]

दुर्मिल सवैया :– भाग -11

ऋषिकेश , जनार्धन , निर्गुण को । हरि , दीनदयाल , गुपाल भजो । [...]

दुर्मिल सवैया :– भाग -10

हिय में अपने प्रभु नाम भजो । मनमोहन सोहन श्याम भजो । भज धन्य [...]

कविता :–क्यों जीता है तू मन मसोस ।।

कविता :-- क्यों जीता है तू मन मसोस ??? कवि :-- अनुज तिवारी [...]

गज़ल :– समझो अदब में झुकती है टहनी गुलाब की ।।

गज़ल :-- समझो अदब में झुकती है टहनी गुलाब की ।। बह्र :-- [...]

गज़ल :– जिसनें जाना है दाम फूलों का ।।

गज़ल :-- करता मदहोश जाम फूलों का । बहर :----- 2122---1212---22 जिस नें जाना [...]

कुन्डलियां :– माँ

कुन्डलियां :-- माँ माँ में ममता , वात्स्यना , मोह , मृदुल , [...]

दुर्मिल सवैया :- भाग 6 -चितचोर बड़ा बृजभान सखी ॥

*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -5 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 8 सगण / 4 पद [...]

दुर्मिल सवैया :– भाग –5 चितचोर बड़ा बृजभान सखी ॥

*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -5 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 8 सगण / 4 पद [...]

दुर्मिल सवैया :- भाग 5

*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -5 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 8 सगण /4 पद [...]

दुर्मिल सवैया :– चितचोर बड़ा बृजभान सखी- भाग 4

*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -4 चित चोर बड़ा बृजभान सखी [...]

गीत :– मेरी बेटी है तू ॥

गीत :-- मेरी बेटी है तू ॥ मेरी बेटी है तू , धन की पेटी है तू [...]

मुक्तक :– अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥

मुक्तक :-- अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥ हकीकत है अदाकारी [...]

गज़ल :– ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ॥

गज़ल :-- ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ।। मापनी [...]

गज़ल :– फ़िर भी जला है आग सा मेरा बदन तमाम ।

*गज़ल :-- *फ़िर भी जला है आग सा मेरा बदन तमाम ॥* तरही गज़ल मापनी [...]

गज़ल :– कब तलक वो आपसे ही रूठ कर तन्हा रहेगी ॥

गज़ल :-- कब तलक वो आपसे ही रूठ कर तन्हा रहेगी ॥ बहर :- 2122-2122-2122-2122 कब [...]

कविता :– नोट के बदलते तेवर ॥

कविता :-- नोट के बदलते तेवर ॥ आज हिन्द करवट बदला है ! लोगों का [...]

गज़ल :– जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ॥

ग़ज़ल :-- जो आज भी उसमें गुमान बाकी है !! बहर :-- 2212 2212 1222 जो आज भी [...]

गज़ल :– मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥

गज़ल :-- मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥ बहर :- [...]

गज़ल :– चलो जो राह पे सम्हल के सामना देखो ॥

गज़ल :-- चलो जो राह पे सम्हल के सामना देखो ॥ 1212--1122--1212--22 इस बहर पर [...]