साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Ankita Kulshreshtha

Ankita Kulshreshtha
Posts 35
Total Views 2,048
शिक्षा- परास्नातक ( जैव प्रौद्योगिकी ) बी टी सी, निवास स्थान- आगरा, उत्तरप्रदेश, लेखन विधा- कहानी लघुकथा गज़ल गीत गीतिका कविता मुक्तक छंद (दोहा, सोरठ, कुण्डलिया इत्यादि ) हाइकु सदोका वर्ण पिरामिड इत्यादि|

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

आपका सज़दा किया…

""" इक ज़रा सा अब्र का कतरा सिरहाने पर रखा.. और धनक़ का छोर लेकर [...]

तुम्हें खबर तो है न?

मेरी जिंदगी की किताब के हर वरक हर हरफ़ हर शिफ़हे पर तुम्हारी [...]

खिलौना जब बनाया

खिलौना जब बनाया दिल किसी ने किसी का तब रुलाया दिल किसी [...]

गीतिका

2,2,2,2,2,2,2,2, पदांत किया जाता है समांत आन ------------------------------ मन बलवान [...]

वो “पहली राइड”

वो पहली राइड मैं तुम और बाइक सिनेमा को जाते सबसे [...]

मेरा देश महान

शुचि गीता या बाइबल ..या हो पाक कुरान क्या विनती क्या आरती [...]

लग गई किसकी नजर…..

अतुकांत रचना ******* " परत चढ रही है, अवसाद की, प्यार पर, पङ गयी [...]

जाना है दूर

जाना है दूर बहुत दूर तुम्हारा हाथ थामकर जहां न नफरतें [...]

गज़ल

सभी राज हमसे छिपाए हुए हैं कभी जो थे अपने पराए हुए हैं लबों [...]

युंही….

आँखोँ की झील मेँ डूबे सपने मेरे , बरस जाते हैँ ,तकिये के [...]

लग गई किसकी नजर…..

परत चढ रही है, अवसाद की, प्यार पर, [...]

“रिंगटोन” (दिलों की)

रिंगटोन ****** "क्या सोच रही है सोना ?" कॉलेज के गार्डन में किताब [...]

लघुकथा : ” वो बच्ची और चूङियां “

"मम्मी मुझे चूङियां नहीं अच्छी लगती ऐसी ,आप वापस कर दो" रुचिका [...]

नीति के दोहे

१. नमन करूँ माँ शारदे .. करुं विनय कर जोर। विद्या का वरदान [...]

“देश मेरा दिव्य पावन धाम है”

>> देश मेरा दिव्य पावन धाम है >> गूंजता हर ओर इसका नाम [...]

अॉड – ईवन 2

"कौन आ गया सुबह सुबह" द्वारकानाथ जी लाठी टेकते हुए दरवाजा [...]

“मीत मेरे” गीतिका

प्रीति मेरी मीत तेरे नाम है सुबह तुम से ही तुम्हीं से शाम [...]

वेदना(शहीद की पत्नी)

1) चूड़ियां रोईं लगा गज़रा सिसकने टूटकर प्रीति की माला भी' [...]

“माफ कर दो..” अतुकांत रचना

मैं..... कल तुम्हारे पीछे तुम्हारे कमरे में गई थी... तुम तो [...]

जब तुम नहीं हो (अतुकांत )

"जब तुम नहीं हो" 󾁆 󾁆 󾁆 󾁆 कल तुम अपनी राह पर जाओगे साथ गुजारा [...]

मन निर्विकार

निर्विकार निराकार एक स्वप्न साकार होता हुआ , तोड़ कर [...]

मेरे श्याम

हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने .. नंद नंदन श्याम जग को . . है [...]

छंद कुण्डलिया छंद

""धरती अंबर सज रहे, आया मास वसंत । योगी टेरे योग को, नील गगन में [...]

हमें जिद है…

लगी है ज़िद तुझे हर हाल में दिल में बसाने की.... मनाने की तुझे [...]

हां नारी हूँ

" मैं चपला सी तेज युक्त नभ तक धाक जमाऊँ आ सूरज, तेरी किरणों [...]

बाल कविता प्यारी चिड़िया

चूं चूं चिड़िया आओ ना दाना रक्खा खाओ ना 🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼 फुदक [...]

जीवन लीला

जीवन - लीला रहे अधूरी सुख - दुख के संयोग बिना .. प्रीति कहाँ हो [...]

मुकरी

सब दिन पीछे पीछे डोले कभि कुछ मांगे कभि कुछ बोले डांटूं तो रो [...]

अपना साथ दे दो

***** "प्यासी है मन की धरा नेह की बरसात दे दो।। अंजुमन की रागिनी [...]

क्या लिखूं

प्यारा भारत वर्ष लिखूं आजादी संघर्ष लिखूं जाति धर्म में देश [...]