साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

अजीत कुमार तलवार
Posts 371
Total Views 3,905
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

!! अनाड़ी लोग-जानते सब हैं !!

हर कोई जानता है तेरे दर पर जो अर्पित कर रहा हूँ, वो तेरी झोली [...]

!!-जय माता दी-!!

माता रानी मेरी जग जननी तेरा पार न पाया किसी ने दर दर की ठोकर [...]

!! उसको दिए पंख – तुझ को भी दी बुधि !!

आसमान में कैसे उड़ जाता है एक छोटा सा भी पक्षी नहीं लेता सहारा [...]

!! तजुर्बा !!

यूं ही नहीं कोई किसी को समझा जाता है चाहे बड़ा हो या हो [...]

!! दरख्त तेरी छान प्यारी !! (पेड़ तेरी छाव प्यारी)`पंजाबी कविता

तैनू सजदा करा तेरी मीठी छान मैनू चंगी लगदी मैं सोनवा तेरी [...]

!!–जिस तन लागे वो ही जाने–!!

दर्द उसी को होता है, जिस को चोट लगती है दुनिया का क्या वो तो [...]

!! मृत्यु से कैसा डर !!

क्यूं करें खौफ मृत्यु से जिस का आना निश्चित है न जाने कितने [...]

!! सत्संग !!

आज न जाने कितने होते सत्संग, हमारे आस पास और दुनिया भी आती [...]

!! शायरी !!

सही काम करने वाले के दुश्मन हो जाते हैं लोग न जाने क्या क्या [...]

!!~ हे गंगा माँ तुझ बिन सब प्यासे ~!!

अगर तू नहीं तो कैसे बुझेगी प्यास इस जग की तू है तो जिदगी है सब [...]

!! सब की मांग बेटा, बेटी क्यूं नहीं ? !!

बेटी पैदा होते ही, कुछ प्राणियों को सांप सूंघ जाता है बेटा [...]

!!~ पान और गुटखा बन्द -शराब क्यूं नहीं ?~~!!

क्यूं ? नहीं लग जाता पूर्णतया प्रतिबन्ध अब शराब के कारोबार [...]

!!”योगी का डंडे का जोर”!!

डंडे में कितना जोर होता है यह देख के बंदा मदहोश होता है चैन [...]

!! जेब गर्म तो रिश्ते गर्म !!

आजमा लो, जिन्दगी में अगर सच न हो तो बता देना अगर जेब में रखा है [...]

!! 23 मार्च – कैसे न याद करूं तुमको !!

नाम रोशन किया उन वीरों ने आज ही के दिन जो झूल गए फ़िक्र न थी [...]

!! मेरी वसीयत !!

दुनिया को छोड़ने से पहले लिख कर जा रहा हूँ जो भी शब्दों की [...]

!!~~आदित्यनाथ योगी~~!!

नाम सुना था, बस इस से ज्यादा नहीं पता था कि क्या है तुममें [...]

!! मुलाकात !!

कहाँ मिले थे, क्या याद है न तुमको वो समां था कुछ हसीं सा जब [...]

~~ बिखरे पल ~~

बड़ी सहजता के साथ मैं तुम को समेट रहा हूँ गुजरे हुए पलो तुम [...]

!! माफ़ करना.-कलम जो रूकती नहीं !!

दोस्तों, मैने कुछ दिन पहले खुद को सब के साथ वादा किया था की [...]

~~किस्मत के खेल निराले~~

तेरी दुनिया में हैं, किस्मत के खेल निराले कोई किसी चीज को [...]

!!! नशे में डूबा इंसान !!!

किसी को धन का नशा और वो उसमें लिप्त इतना की खुद का होश नहीं तो [...]

***चल दिया काटने दरख्त को ***

निकला था घर से चलने को कोसों दूर बड़ी गर्मी थी फिजां में और [...]

!!! ये कैसा मजहब !!!

जब हम खुद बहुत छोटे थे तब अपने गुरुजनों से सुना करते थे, कि [...]

!! दुःख और सुख दोनो अच्छे हैं !!

क्यूं करता है चिंता कि दुःख आ गया है मेरी झोली में खुद को [...]

!!! प्यार या हवस !!!

कोन करता है अब प्यार वो करने वाले अब कहाँ जिस तरफ देखो इक आग [...]

@@ शायरी @@

जिस्म की तलाश में. गुजार गया वो राते अपनी कभी कोठे पर और कभी [...]

~~~सत्ता का लोभ या अभिमान ~~~

बड़े बड़े सूरमा गिर गए अपने गरूर से नजर जो न मिला के चले जनता [...]

!!~~होली के रंग~~पर हावी करो प्रेम का रंग~~!!

ये रंग, जो कल चढ़ जाएगा होली के सग संग यह भी धुल जाएगा किसी पर [...]