साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Abhinav Kumar Yadav

Abhinav Kumar Yadav
Posts 6
Total Views 110

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

दिल के अरमा

तुमने मेरे अरमानों को समझा ही नहीं, मैने जताया तो बहुत [...]

लोग इतने बिमार होंगे सोचा न था

गौरी लंकेश के हत्या पर कुछ लोग इतने खुश हैं मानो उनके सर से [...]

गोरखपुर हत्या

माँ अब न मैं आऊँगा, बेरहम इस दुनिया में, जहाँ हवा हो इतनी [...]

अक्सर रात में

अक्सर रात में जब सारा जग सो जाता है, मेरे दिल के अंधेरे में [...]

बेटी ही देवी

मत मारो मॉ मैं तुम्हारी ही तू हूँ , बेटा नहीं तो क्या बेटी ही [...]

बारिश

ये बारिश की बूंदे जो भिगो देती हैं, तेरी यादों को दिल में पीरो [...]