साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Ashutosh Jadaun

Ashutosh Jadaun
Posts 24
Total Views 185
स्वागत हैं मेरे जज्बात साज़ गीतों में. कभी जब मैं यूँ ही तन्हा बैठता हूँ ,और अचानक ही पुरानी यादों की बारिशें,मेरे जेहन में बेतरतीब से ख्याल बूँद बनकर, मेरी कलम से कागज़ पे लफ्ज़ उकेरने को मचलने लगती है II

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मेरे राधा रमण सरकार

जिंदगी की केन्वॉश पर हर उभरता रंग, सिर्फ तेरी वजह से है मेरे [...]

हिन्द मेरा अभिमान

ये जो हिन्द भूमि है ,वो एक चलता फिरता राष्ट्रपुरुष है । इसके [...]

रिश्तों मे गिरावट

चाहत जो बदली नजारे बदल गए अब घर मे ना आँगन ना तुलसी का पौधा अब [...]

एक लड़की की चाह

चाह एक दबी दबी सी थी काश मेरा भी एक भाई होता कभी लड़ती और [...]

सयानी लड़की

वो है एक सयानी लड़की परिवार के लिए पारसमणि से कम नही महज छोटे [...]

सिमटती मोहब्बत

साल दर साल सिमटती मोहब्बत इस कदर "आशुतोष" दिल मे धुंआ रख लोग [...]

अनकही सी बातें

चले आओ मेरे साथिया सावन मे फुहार की तरह फागुन मे मल्हार की [...]

बहन विरासत है

महज बहन नही हो तुम ,मेरे सपनों की आवाज हो ,मेरे सुनहरे भविष्य [...]

सादगी के गहने

सादगी के गहने से अपनी जिंदगी सवार लेते पर ये हो ना सका । मन मे [...]

वजह तुम हो

मैं तो चलु नजरों के मैख़ाने ले कर पर वो तर जाए , घनश्याम वजह तुम [...]

दृष्टि प्रेम पथ

अक्सर कुछ कुछ सुना है और कुछ कुछ जीवन के अनुभव से जाना है , [...]

मेरी माशुका

मेरी माशुका सिर से पैर तक चलता फिरता काव्य उसके हर एक शब्द [...]

मेरी कलम

मेरी कलम है कोई बेमेल सी कश्मीरी सरकार नही वो कोई ऐसी बात [...]

आखिर मन ही तो है

आखिर मन ही तो है कभी ख्याली बूंद बन महल सजाने लगता है और कभी [...]

हसीना का सबक

कल हसीना की एक झलक देखी , वो राहों पे कही गुनगुना रही थी । फिर [...]

दीवार , छत और जमीन

बड़ी खूबसूरती से बनाया घर तो रिश्तों को बेबाक़ी से जीना सिख [...]

पहली मुलाकात

समय के चक्र को कुछ पीछे पलटना मेरे दिल को जैसे सुकून दे गया [...]

गजल गीत का सौदागर

मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन [...]

गाँव की बेटी

रिश्तों को पैसों से नही तोलती है वो हां वो एक गांव की बेटी है [...]

मेरी माशुका की बेटी

समय कहता है मेरा वतन मेरी असल माशुका है और मेरी माशुका की [...]

अनामी

असल नाम क्या है मेरा ना मैं जानती हूँ ना कोई और बस इतना [...]

तपन का पत्ता बता दो

छोटु के पापा , गुड़िया की मौसी , मुन्नी की नानी , लटकु के दादा , [...]

राजनीती और विज्ञान

राजनीतिक गतिकी का नियम :- राजनेता ना निर्मित होते है , ना ही [...]

नजर आओगे कभी ना कभी

यदि चाह हमारे दिल मे है , तुम नजर आओगे कभी ना कभी । भोली सूरत , [...]