साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी
Posts 84
Total Views 4,629
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

कुछ घनाक्षरी छंद

कुछ घनाक्षरी छंद ★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★ छन्द [...]

घनाक्षरी- नारियों का नर सम मान होना चाहिए

घनाक्षरी- नारियों का नर सम मान होना [...]

भोजपुरी कहानी- सखी

सखी **** खेदारू के बिआह फूला संघे बड़ी धूमधाम से भइल। बिदाई के [...]

माँ

माँ -------------------- टूटी खाट पर बैठी बुढ़िया चिल्लाए जा रही थी। [...]

अगर सत्ता न हिल जाये तो फिर ये खून कैसा है

अगर सत्ता न हिल जाये तो फिर ये खून कैसा [...]

गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना…

गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना... ★■★■★■★■★■★■★■★■★ देखिये [...]

ग़ज़ल- नहीं सोचा वही

ग़ज़ल- नहीं सोचा वही... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नहीं सोचा वही हर बार [...]

एक मुक्तक

एक- मुक्तक ●●● गिरे हैं गर्त में फिर भी उंचाई ढूंढ लेंगे [...]

ग़ज़ल- कुछ किया ही नहीं…

ग़ज़ल- कुछ किया ही नहीं... ●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●● मैं तो' जीता [...]

दो कुण्डलिनी छंद

दो कुण्डलिनी छंद 1- कितनी छोटी हो गयी, है मानव की सोच, आगे बढ़ने [...]

गीत- आज हँसो जी भर के

आज हँसो जी भर के ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ आज हँसो जी भर के न कल [...]

ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं…

ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं... मापनी- 221 2121 1221 [...]

कुण्डलिया- दिल्ली की वायु

कुण्डलिया- दिल्ली की वायु ●●●●●●●●●●●●●● देखो रहकर गाँव [...]

ग़ज़ल- जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा

ग़ज़ल- जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ जिसे [...]

ग़ज़ल- अच्छा हुआ कि यार अभी ज्ञान आ गया

ग़ज़ल- अच्छा हुआ कि यार अभी ज्ञान आ गया 221 2121 1221 212 मफ़ऊल फ़ाइलात [...]

गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना

गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना ◆●◆●◆●◆●◆ जिसने खुद को है [...]

ग़ज़ल- कौन दिल की आवाज सुनता है

ग़ज़ल- कौन दिल की आवाज सुनता है ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ पैसे की ही वो आज [...]

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ हँसना तो एक बहाना है। गम [...]

ग़ज़ल- बंजर में जैसे फूल निकलते कभी नहीं

ग़ज़ल- ये स्वप्न... मापनी- 221 2121 1221 212 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ ये स्वप्न मेरे' [...]

गीतिका को समर्पित गीतिका

गीतिका को समर्पित गीतिका ■■■■■■■■■■■■■■ दिल को' करती है' [...]

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी ... ____________________________ ये कलयुग है यहाँ तो [...]

ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने

ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने ★★★★★★★★★★★★★ आज ये क्या किया [...]

पास जो पैसे नहीं तो, कौन किसका यार

एक अपदान्त गीतिका ................................. जब यहाँ पे झूठ का ही, है महज [...]

ग़ज़ल- ये स्वप्न ही हमें तो रुलाते हैं आजकल

ग़ज़ल- ये स्वप्न ही हमें तो रुलाते हैं आजकल मापनी- 221 2121 1221 [...]

गीतिका- क्या परी हैं आप जो जादू चलाया आपने

गीतिका- क्या परी हैं आप जो जादू चलाया [...]

ग़ज़ल- दिल ये तेरा दास है अबतक

ग़ज़ल- दिल ये तेरा दास है अबतक +-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+ तू बहुत हैै दूर [...]

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा °~°~°~°~°~°~°~°~°~°~°~° पल पल कितना डर लगता [...]

ग़ज़ल- अगर इतरा रहे हो तुम…

ग़ज़ल- अगर इतरा रहे हो तुम... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ अगर इतरा रहे हो [...]